×

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

aman

amanBy aman

Published on 12 Jan 2017 2:52 PM GMT

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

लखनऊ: महासंग्राम 2017 के तारीखों के ऐलान के साथ बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की रणनीति का नया रूप भी सामने आने लगा है। सोशल नेटवर्किंग साइटों पर पार्टी के प्रचार अभियान के मैटेरियल साफ देखे जा सकते हैं। जिन्हें पारंपरिक तरीकों से अलग अंदाज में पेश किया गया है। यानि कि बसपा भी अब वही खेल, खेल रही है। जिस पर अब तक दूसरों का कब्जा माना जाता था।

जब ज्यादातर दल अपने प्रत्याशी घोषित नहीं कर पाए हैं। बसपा ने प्रत्याशियों की घोषणा के साथ अपने चुनावी अभियान को भी गति दे दी है। पर यह बदलाव कितना आगे बढ़ पाएगा। पार्टी नेता इस बारे में कुछ भी कहने से कतरा रहे हैं। फिलहाल बसपा मुखिया की हाल के महीनों में लगातार हुए प्रेस कांफ्रेंस को उसी से जोड़ कर देखा जा रहा है।

सोशल मीडिया के जरिए पेश कर रही एजेंडा

बसपा पोस्टरों के जरिए सोशल मीडिया में अपना एजेंडा दिखा रही है साथ ही सत्ताधारी दल पर प्रहार भी कर रही है। जैसे 'निर्दोषों को न आंसू बहाने दो, बहन जी को आने दो!'। 'उम्मीदों को पूरा हो जाने दो, बहनजी को आने दो!'। इस तरह के कैंपेन मैटेरियल खूब चल रहे हैं। इन पोस्टरों के जरिए जरिए विरोधियों पर भी हमला बोला जा रहा है।

आगे की स्लाइड्स में देखें बसपा की सोशल मीडिया पर प्रचार के कुछ रंग ...

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

BSP भी खेल रही वही खेल, जिस पर माना जाता था अब तक दूसरों का कब्जा

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story