×

आजम के बेटे अब्दुल्ला के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत, BJP ने की नामांकन रद्द करने की मांग

बीजेपी ने चुनाव आयोग से एक लिखित शिकायत में कहा है कि अब्दुल्ला आज़म की आयु 25 साल नहीं है। बीजेपी ने अपनी शिकायत में यह भी कहा है कि अब्दुल्ला आजम ने नामांकन के समय संपत्ति का विवरण नहीं दिया है।

zafar

zafarBy zafar

Published on 2 Feb 2017 11:12 AM GMT

आजम के बेटे अब्दुल्ला के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत, BJP ने की नामांकन रद्द करने की मांग
X
यूपी चुनाव 2017: रामपुर में आजम ने बचाई सपा की साइकिल, बेटे को भी मिली जीत
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी ने आजम खान के बेटे और रामपुर की स्वार विधानसभा सीट से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अब्दुल्ला अजम की चुनाव आयोग में शिकायत की है। पार्टी ने उन पर नामांकन के दौरान अधूरी जानकारी देने का आरोप लगाते हुए उनका नामांकन रद्द करने की मांग की है।

अब्दुल्ला की शिकायत

-बीजेपी ने चुनाव आयोग से एक लिखित शिकायत में कहा है कि अब्दुल्ला आज़म की आयु 25 साल नहीं है।

-बीजेपी ने अपनी शिकायत में यह भी कहा है कि अब्दुल्ला आजम ने नामांकन के समय संपत्ति का विवरण नहीं दिया है।

-पार्टी ने चुनाव आयोग से कहा है कि अब्दुल्ला आजम ने नामांकन में अधूरी जानकारी दी है, जिससे उनका नामांकन रद्द किया जाय।

-प्रदेश के कद्दावर काबीना मंत्री आजम खान के पुत्र अब्दुल्ला पहली बार विधानसभा चुनाव में उतर रहे हैं।

-समाजवादी पार्टी ने अब्दुल्ला आजम को रामपुर की स्वार सीट से टिकट देकर चुनाव में उतारा है।

आजम ने अब्दुल्ला को बताया था सियासी वारिस

आजम खान ने काफी पहले ही अब्दुल्ला को अपना सियासी वारिस बता दिया था। उन्होंने ऐलान किया था कि यूपी के अगले विधानसभा चुनाव में उनका दूसरा बेटा अब्दुल्ला आजम मैदान में उतरेगा और स्वार सीट से किस्मत आजमाएगा।

तो ऐसे बेटे ने पहली बार पकड़ा था माइक…

आजम खान के बेटे अब्दुल्ला ने नोएडा के गलगोटियाज यूनिवर्सिटी से स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। अप्रैल, 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान चुनाव आयोग ने आजम खान को भड़काऊ भाषण देने की वजह से प्रचार करने से रोक दिया था। तब टांडा में होने वाली मीटिंग में शामिल होने के लिए अब्दुल्ला खान को बुलाया गया था। यह पहला मौका था जब पिता के बगैर उन्होंने किसी मंच से जनता तक अपनी बात पहुंचाई थी। अब्दुल्ला खान के मुताबिक, ”मीटिंग के दौरान जब सीएम अखिलेश यादव ने माइक पर बोलने के लिए उनका नाम पुकारा तो मैं हैरान रह गया। मैं कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं था। जब तक मैं कुछ सोच पाता, तब तक चलकर माइक तक पहुंच चुका था।”

राजनीति से ऊपर हमेशा रखी पढ़ाई

अब्दुल्ला खान भले ही पहली बार मंच पर कुछ बोलने के लिए आए थे, लेकिन जैसे ही उन्होंने बोलना शुरू किया तो झलकने लगा कि वो एक बड़े पॉलिटिशयन के बेटे हैं। भाषण खत्म होने के बाद उनसे सबसे पहला सवाल यही पूछा गया कि वो राजनीति में कब आ रहे हैं। इस पर उन्होंने जवाब दिया था, ” अभी तो बिल्कुल नहीं। मेरे पापा चाहते हैं कि पहले मैं अपनी इंजीनियरिंग पूरी करूं। उसके बाद आगे फैसला लिया जाएगा कि मैं अपना करियर पॉलिटिक्स में बनाऊंगा या फिर कहीं और।”

आगे स्लाइड में देखिये बीजेपी की शिकायत...

आगे की स्लाइड्स में देखिए, अब्दुल्ला आजम की कुछ और फोटोज...

zafar

zafar

Next Story