×

अखिलेश की हुई समाजवादी पार्टी, चुनाव आयोग ने दिया मुलायम सिंह को बड़ा झटका

Rishi
Updated on: 16 Jan 2017 1:07 PM GMT
अखिलेश की हुई समाजवादी पार्टी, चुनाव आयोग ने दिया मुलायम सिंह को बड़ा झटका
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी में साइकिल चुनाव चिह्न को लेकर चल रही जंग सोमवार को खत्म हो गई। चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव के हक में फैसला सुनाया। चुनाव आयोग ने साइकिल चुनाव चिह्न और पार्टी का नाम दोनों ही अखिलेश यादव को दे दिए। उन्होंने माना है कि अखिलेश यादव की पार्टी ही असली समाजवादी पार्टी है। इस फैसले से एक तरह जहां मुलायम सिंह यादव को बड़ा झटका लगा है, वहीं अखिलेश खेमे में खुशी की लहर दौड़ गई है। इस फैसले के बाद अब कांग्रेस से गठबंधन का रास्ता भी साफ हो गया है।

बता दें कि केंद्रीय चुनाव आयोग ने यूपी, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है। यूपी में सात चरणों में विधानसभा चुनाव होने हैं। पहले चरण का चुनाव 11 फरवरी को होगा। इसके बाद 15 फरवरी, 19 फरवरी, 23 फरवरी, 27 फरवरी, 4 मार्च और 8 मार्च को विधानसभा चुनाव होने हैं। सभी राज्यों में चुनावी नतीजे 11 मार्च को घोषित होंगे। गौरतलब है कि लखनऊ समेत राज्य के 12 जिलों में चुनाव तीसरे चरण में 19 फरवरी को होंगे। तीसरे चरण में 69 सीटों पर वोटिंग होगी।

अखिलेश यादव ने किया ट्वीट

चुनाव आयोग का फैसला आने के बाद सीएम अखिलेश यादव ने ट्विटर पर मुलायम सिंह यादव और रामगोपाल यादव की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा 'साइकिल चलती जाएगी ... आगे बढती जाएगी।'



यह भी पढ़ें ... UP में 11 फरवरी को होगा पहले चरण का मतदान, जानें आपके यहां कब होगी वोटिंग

राम गोपाल यादव ने क्या कहा ?

चुनाव आयोग के अखिलेश में हक में फैसला सुनाने के बाद प्रोफेसर रामगोपाल ने कहा कि सीएम और उनके समर्थक काफी खुश हैं। चुनाव होने के बाद अब मुलायम सिंह यादव पर कोई कमेंट नहीं करूंगा। साथ ही उन्होंने पर्दा उठाते हुए कहा कि कांग्रेस से गठबंधन की उम्मीद है। वहीं, कांग्रेस ने भी इस पर रिएक्शन देते हुए कहा है कि अगर गठबंधन हुआ तो यूपी चुनाव में इस बार ऐतिहासिक नतीजे आएंगे।

फैसला आने से पहले मुलायम सिंह यादव ने सोमवार को पार्टी कार्यालय में अखिलेश ने मुसलमानों की अनदेखी की है। उसकी लिस्ट में मुसलमान उम्मीदवार काफी कम हैं। रामगोपाल के बहकावे में आकर अखिलेश यह सब कुछ कर रहा है। वो मिलने की नहीं आ रहा है। जब बीवी और बच्चों की कसम खिलाई तक जाकर कहीं मिलने आया। एक बार आया तो बात शुरू करने से पहले ही चला गया। जनता के बीच यह संदेश जा रहा है कि यूपी का सीएम मुसलमान विरोधी है। अखिलेश ने कई मंत्रियो को बेवजह पार्टी से निकाला। मेरा बेटा दूसरे के हाथों में खेल रहा है।

क्या बोले लालू यादव ?

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भी चुनाव आयोग के फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि मैं अखिलेश यादव को मुबारकबाद देता हूं और नेताजी से अपील करते हैं कि वह उसे अपने आशीर्वाद दें।

अब मेरे पास क्या बचा है ?

मुलायम ने यह भी कहा था कि खिलेश को सीएम बना दिया। जो कुछ था सब इन्हें दे दिया। अब मेरे पास क्या बचा है। मैंने गरीबी में परिवार छोड़ा। पार्टी के लिए जेल गए, लाठियां खाईं, तब जाकर कहीं खड़ी हो पाई है पार्टी। आप लोगों ने तकलीफें झेली हैं। परिवार भी छोड़ा। अपने बारे में क्या कहूं कि कितनी बार जेल जाना पड़ा। क्या मैंने मामूली तकलीफ झेली है। जब मैं जेल में था, तब शिवपाल पार्टी को देखता था। रामगोपाल ने लिख कर दिया है कि हम मोटर साइकिल चुनाव चिन्ह मांग रहे हैं। वो बीजेपी से जाकर मिल गए हैं। रामगोपाल ने चुनाव आयोग से अखिल भारतीय समाजवादी पार्टी नाम और मोटरसाइकिस सिंबल मांगा है। हम पार्टी को भी एक रखना चाहते हैं और परिवार को भी, लेकिन एक आदमी ऐसा होने नहीं दे रहा है।

आगे की स्लाइड्स में कैसे देखिए, कैसे मनाया जा रहा है अखिलेश की जीत का जश्न...

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story