×

मायावती ने कहा- BSP नहीं बोलती बड़े बोल, जुमलेबाजी करना हमें पसंद नहीं

aman
By aman
Updated on: 8 Jan 2017 8:17 AM GMT
मायावती ने कहा- BSP नहीं बोलती बड़े बोल, जुमलेबाजी करना हमें पसंद नहीं
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: चुनाव के समय बसपा किस्म-किस्म के लोकलुभावन वायदों और बड़े-बड़े सपने दिखाने वाली कोई चुनावी अपील जारी नहीं करती है। पार्टी ना तो कोई बड़े बोल बोलती है और ना ही कोई जुमलेबाजी करना पसंद है। इसकी हर नीति और कार्यक्रम सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय पर आाधारित होता है। यही इसका राजधर्म और कर्म है। ये बातें बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती ने 19 मॉल एवेन्यू स्थित पार्टी मुख्यालय में वरिष्ठ पदाधिकारियों की बैठक में कही।

बसपा सुप्रीमो ने कहा, 'बसपा अनुशासित पार्टी होने के साथ-साथ एक मूवमेंट भी है। इसीलिए अन्य राजनीतिक पार्टियों जैसे- बीजेपी, कांग्रेस और सपा से अलग व्यवहार करते हुए जनकल्याण के लिए जो कहती है, वह करती है। इस प्रकार की इसकी विश्वसनीयता पार्टी की असली पूंजी है।'

ये भी पढ़ें ...मायावती ने जारी की 101 उम्मीदवारों की चौथी लिस्ट, अब तक 401 प्रत्याशियों का ऐलान

कार्यकर्ता लगाएं पूरा जोर

बैठक में मायावती ने चुनावी तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि 'तमाम परिस्थितियां बता रही हैं कि प्रदेश में कानून द्वारा कानून का राज स्थापित करने के लिए सर्वसमाज के लोग बीएसपी की सरकार दोबारा बनाने को तत्पर हैं। कार्यकर्ता थोड़ी और लगन व मेहनत से काम करके प्रदेश में सत्ता के बहु-प्रतीक्षित लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं।'

अन्य पार्टियां बस बरगलाने का काम करती है

उन्होंने कहा कि 'अन्य पार्टियां चुनाव के समय अपील करती है, वह लोगों की निगाह में कोई विशेष महत्व नहीं रखता। सरकार बनने के बाद बीजेपी, कांग्रेस और सपा इस अपील पर ध्यान नहीं देती है। सरकारी संसाधनों का घोर दुरुपयोग करते हुए विज्ञापनों आदि के माध्यम से केवल गलत दावों के कूड़ों का ढेर लगा देती है।'

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

सपा की रहती है जातिवादी नीति

मायावती ने कहा कि सपा सरकार बदहाल सरकार साबित हुई है। इसने बीजेपी से अपनी मिलीभगत के कारण उत्तर प्रदेश का और भी ज्यादा नाश किया है। जातिवादी नीति और इसी पर आधारित सपा की गलत कार्यशैली के कारण आज प्रदेश में कुछ लोगों को छोड़कर सर्वसमाज की समस्त जनता दुःखी है।

कार्यकर्ता करें सहयोग

उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं को आचार संहिता को ईमानदारी के साथ लागू करने में सहयोग करना है। इन मामलों में भी विरोधी पार्टियों से अलग हटकर पूरे तौर से एक अनुशासित पार्टी के रूप में व्यवहार करना है। पर अगर कोई अधिकारी कोई पक्षपात या अपनी मनमानी या फिर कमजोर और उपेक्षित वर्गों के लोगों को परेशान या आतंकित करने की कोशिश करता है तो उसकी लिखित शिकायत तुरंत वहां तैनात केन्द्रीय पर्यवेक्षक व निर्वाचन आयेग को करने जरूरी है।

aman

aman

Next Story