×

राकेश वर्मा ने कैसरगंज से चुनाव लड़ने से किया इनकार, कहा- रामनगर से ही चाहिए टिकट

Rishi
Updated on: 20 Jan 2017 2:04 PM GMT
राकेश वर्मा ने कैसरगंज से चुनाव लड़ने से किया इनकार, कहा- रामनगर से ही चाहिए टिकट
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

बाराबंकी: समाजवादी पार्टी की लिस्ट आते ही विरोध के स्वर भी मुखर होना शुरू हो गए हैं। पूर्व केन्द्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा के पुत्र राकेश वर्मा ने विरोध की शुरुआत की है। समाजवादी पार्टी की लिस्ट में राकेश को बहराइच जनपद की कैसरगंज विधानसभा से टिकट दिया है, जबकि राकेश ने अपनी तैयारी रामनगर से होने की बात कह कर कैसरगंज से चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया है। बता दें कि बाराबंकी में फेज-3 में 19 फरवरी को वोटिंग होनी है।

विरोध का बिगुल फूंकने वाले राकेश वर्मा पूर्व कारागार मंत्री रह चुके है। उनकी प्रतिद्वंदिता ग्राम विकास मंत्री अरविन्द सिंह गोप से जगजाहिर है। अरविन्द सिंह गोप वर्तमान में रामनगर से ही विधायक हैं। मगर बेनी प्रसाद वर्मा यहां से अपने बेटे राकेश के लिए टिकट की मांग कर रहे थे। राकेश का यहां से टिकट काटना बेनी प्रसाद वर्मा के लिए किसी झटके से कम नहीं है।

क्या कहना है राकेश वर्मा ?

राकेश वर्मा ने कहा कि वह पिछले दो सालों से रामनगर में मेहनत कर अपने लिए अनुकूल माहौल बना चुके है। ऐसे में नए क्षेत्र से चुनाव लड़ने का कोई सवाल ही नहीं। वह रामनगर से ही चुनाव लड़ेंगे। वहीं जब उनके पूछा गया कि क्या वो किसी नई पार्टी का दामन थामेंगे तो उन्होंने चुप्पी साध ली।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story