×

शिक्षा मंत्री विजय बहादुर पाल का ऑडियो लीक, जानें किस तरह कर रहे 'जीत' फिक्स

aman
By aman
Updated on: 26 Oct 2016 2:59 PM GMT
शिक्षा मंत्री विजय बहादुर पाल का ऑडियो लीक, जानें किस तरह कर रहे जीत फिक्स
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कन्नौज: कन्नौज में समाजवादी पार्टी (सपा) के शिक्षा मंत्री विजय बहादुर पाल का एक आॅडियो सामने आया है। इस ऑडियो में एक बीडीसी के घर पर मंत्री के जाने पर बीडीसी के न होने पर उसके पिता के फोन से जो बात मंत्रीजी ने की है उसकी आॅडियो रिकार्डिंग है। इस पूरी बातचीत सुनने के बाद सपा के इस मंत्री का भ्रष्ट चेहरा सामने आया है। इस ऑडियो में अपने चहेते प्रत्याशी को ब्लॉक प्रमुख बनाने के लिए उसको रुपयों का प्रलोभन दे रहे हैं।

आइये ट्रांसक्रिप्शन के जरिए जानते हैं क्या है ऑडियो में :

बीडीसी सदस्य: हैलो नमस्कार साहब।

मंत्रीजी: हैलो यह कह रहा हूं, सुनो हम लोगों ने... अरे सेक्रेटरी नहीं हम हैं

बीडीसी सदस्य: चरण छूये साहब

मंत्रीजी: बिजय बहादुर पाल बोल रहे हैं।

बीडीसी सदस्य: हां समझ गए साहब

मंत्री जी: पुष्पेन्द्र जी।

बीडीसी सदस्य: चरण छुये साहब.. हैलो हैलो हां, आवाज नहीं आ रही साहब।

बीडीसी सदस्य: हां।

आगे की स्लाइड में पढ़ें मंत्रीजी की पूरी बातचीत ...

मंत्री: यह कह रहे हैं कि हम घर पर आए और जो अभियान हमलोगों ने चला रखा है तीस से ज्यादा प्रमाण पत्र लेकर हमलोग अखिलेश जी के पास जाएंगे और उनसे कहेंगे कि हमारे पास बीडीसी ज्यादा हैं। उसके बाद एक मौका जो है..आप लोगों का कोई एक व्यक्ति उनके पास गिन लेगा कि हां यह कुछ है। केवल कागज के टुकड़े ही नहीं दिखा रहे। और खेल पक्का हो जाएगा। यह अभी 'पचास' की व्यवस्था कर रहे हैं। और आगे पचास की व्यवस्था करेंगे। बाजार में इससे बढ़कर होगा तो और इससे बढ़कर करेंगे। इसमें संकोच न करो हमलोग ऐसे जोड़ते रहें। अगले जो शर्त पूरी नही करेंगे, तो दूसरे बाजी मार लें जाएंगे।

आगे की स्लाइड में पढ़ें बातचीत का अंतिम हिस्सा...

बीडीसी सदस्य: नहीं कोई बाजी नहीं मार ले जाएगा। हम तो आपके साथ हैं।

मंत्री: आप हमारे साथ हो, तो फिर उनको सब यही कहते रहेंगे। इससे नहीं बनेगा। यह तो वही कर रहा है जो कैंडिडेट लड़ाई के मैदान में है। हैं नहीं कर रहा हूं।

बीडीसी सदस्य: तो पप्पू भईया आए हैं का बा दिना ऐसे बात भई।

मंत्री: पप्पू भईया नहीं... हम पप्पू भईया के बड़े भईया हैं।

बीडीसी सदस्य: नहीं आपकी बात अलग है आप मंत्री जी आपकी बात कैसे टाल दिए।

मंत्री: अरे मंत्री होने के मारे नहीं, घर के पहले से रिश्ते मानकर मेरी बात मानो। पहले आप आ जाओ तो। मुख्यमंत्री से टिकट लेने खुद आ जाएगा। ठीक है।

बीडीसी सदस्य: हैलो। अरे पैसा ऐसा नाई फ्री बोट दिए।

अगली स्लाइड में सुनें ऑडियो क्लिप

aman

aman

Next Story