×

मकर संक्रांति पर आचार संहिता का उल्लंघन, खुलेआम बिकीं अखिलेश-मुलायम की तस्वीरों वाली पतंगें

Rishi
Updated on: 14 Jan 2017 1:38 PM GMT
मकर संक्रांति पर आचार संहिता का उल्लंघन, खुलेआम बिकीं अखिलेश-मुलायम की तस्वीरों वाली पतंगें
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कानपुर: विधानसभा चुनावों के चलते प्रदेश में आचार संहिता लागू है, लेकिन इसके बावजूद पार्टियां इसकी धज्जियां उड़ा रही हैं। मकर संक्रांति के पर्व पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बनी पतंगें जमकर बांटी गईं। इन पतंगों के जरिए प्रदेश सरकार के विकास कार्यों का जमकर बखान किया गया। यह पतंगें दुकानदारों को राजनीतिक पार्टियों ने बांटी हैं, क्योंकि आचार सहिंता के कारण होर्डिंग, बैनर और वॉल प्रिंटिंग पर बैन लगा हुआ है। इसलिए पार्टी का प्रचार करने के लिए अब यह तरीका खोज निकाला है।

मकर संक्रांति के पर्व पर पतंग उड़ाने का चलन बहुत पुराना है, लेकिन सबसे खास बात यह है कि इस चुनावी माहौल में पतंगों का खेल इसलिए दिलचस्प हो गया है क्योंकि राजनीतिक पार्टियों ने इस पर दिलचस्पी दिखाई है। दुकानों पर खुलेआम नेताओं की तस्वीरों वालीं पतंगें बिक रही हैं। बच्चों और बड़ों ने भी अपने-अपने पसंद की नेताओं की पतंगें खरीदीं।

क्या बोले दुकानदार ?

दुकानदार लकी अली के मुताबिक, क्या करें साहब पेट का सवाल है। हमको राजनीतिक पार्टियां मुफ्त में यह पतंगें देकर गई हैं। तो मैंने भी सोचा कि जिसको खरीदना होगा खरीद लेगा। अखिलेश यादव और मुलायम सिंह की पतंग की कीमत 5 रुपए है जबकि पीएम नरेंद्र मोदी की पतंग 7 रुपए में बिकी। सबसे ज्यादा मोदीजी की पतंगे बिकी हैं।

'पतंग के जरिए प्रचार करना गलत'

वहीं, पतंग खरीदने आए बब्लू श्रीवास्तव के मुताबिक, चुनाव आयोग ने आचार संहिता लगाई है। जब आचार सहिंता लग जाती है तो नेताओं के होर्डिंग, पोस्टर और झंडें उतार लिए जाते हैं। सरकार जनता के सामने किसी भी तरीके से अपना प्रचार नहीं कर सकती है। इस काम के लिए पतंगों का सहारा लेना बिल्कुल गलत है। पतंग में खुलेआम अखिलेश यादव, मुलायम सिंह की तस्वीर लगी है। इसके साथ ही विकास कार्यों का बखान किया गया है। इसमें मेट्रो की उपलब्धि को भी दिखाया गया है।

क्या बोले पतंग खरीदने आए बच्चे ?

पतंग खरीदने आए बच्चे रिंकी और मासूम ने कहा कि जब हम पतंग खरीदने आए तो यहां पर अखिलेश अंकल और पीएम मोदी की पतंगे भी थीं। रिंकी ने कहा कि मैंने नरेन्द्र मोदी की पतंग खरीदी है तो वही मासूम ने कहा कि मुझे अखिलेश अंकल पसंद है मैं उनकी पतंग खरीद कर उड़ाउंगा।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story