Top

कुछ यूं सुनहरी रोशनी से नहाया संगम तट, जगमगा उठा तंबुओं का छोटा सा शहर

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 18 Jan 2016 9:46 AM GMT

कुछ यूं सुनहरी रोशनी से नहाया संगम तट, जगमगा उठा तंबुओं का छोटा सा शहर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबाद: माघ मेले में यूं तो श्रद्धालु कई बार आए होंगे, लेकिन इस बार जैसा नजारा शायद ही पहले दिखा हो। रोशनी से नहाए संगम तट को जिस किसी ने भी देखा, बस देखता रह गया। महीने भर के लिए बसा तंबुओं का छोटा सा शहर सुनहरी रोशनी में नहाया हुआ था। इस बार ये मेला 1,540 बीघा में बसाया गया है। प्रशासन रेतीली जमीन को श्रद्धालुओं को लिए आरामदायक बनाने की पूरी कोशिश कर रहा है। यही वजह है कि मेले में इस बार बिजली विभाग की खास व्यवस्था की है।

[su_slider source="media: 4414,4413,4412,4411,4410,4409,4401" width="620" height="440" title="no" pages="no" mousewheel="no"]

पूरे मेले में क्या है व्यवस्था ?

* मेला क्षेत्र में बिजली की व्यवस्था के लिए 9,000 विद्युत पोल लगाए गए हैं।

* मेला क्षेत्र में 17 सब स्टेशन बनाए गए हैं।

* आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिए 2 मोबाइल सब स्टेशनों की भी व्यवस्था की गई है।

* जल निगम की ओर से 16 ट्यूबेल में बिजली की सप्लाई के लिए दी जा रही है।

* आपातकाल में बिजली सप्लाई बाधित हो जाने पर 7 सब स्टेशनो पर जनरेटर लगाए गए हैं ।

बिजली विभाग के मुख्य अभियंता ने और क्या कहा ?

* सत्य प्रकाश पांडेय के मुताबिक, इस बार मेला क्षेत्र में पोल स्थापित करने में कम समय और मेहनत लगी।

* इस बार एक विशेष प्रकार की विधि से रेत में ड्रिल करके पोल को लगाया गया है।

* मेला क्षेत्र में जल निगम को लगातार बिजली की सप्लाई दी जा रही है।

* जिससे मेला क्षेत्र में जल छिड़काव में किसी प्रकार की कोइ रुकावट ना आने पाए।

* रोशनी से सभी घाट पूरी तरह जगमगा रहे है।

* विद्युत व्यवस्था को सुचारू बनाये रखने के लिए 17 सब स्टेशन काम कर रहे है।

Newstrack

Newstrack

Next Story