17 कोरोना संक्रमितों ने जीती वायरस से जंग, फूल देकर किया गया विदा

सैफई चिकित्सा विश्वविद्यालय में भर्ती 17 और कोरोना संक्रमितों ने कोरोना को मात देकर जिन्दगी की जंग जीत ली है। ये मरीज आगरा से यहां 23 अप्रैल को भेजे गए थे।

इटावा:  सैफई चिकित्सा विश्वविद्यालय में भर्ती 17 और कोरोना संक्रमित मरीजों ने कोरोना महामारी को मात देकर जिन्दगी की जंग जीत ली है। ये सभी मरीज आगरा से यहां 23 अप्रैल को भेजे गए थे। इन सभी 17 मरीजों को मिलाकर अभी तक कुल 48 कोरोना सक्रमित मरीज ठीक होकर विश्वविद्यालय द्वारा डिसचार्ज किये जा चुके हैं। यह जानकारी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 डा0 राजकुमार ने दी।

कोरोना से सही हुए मरीज भी कोरोना वारियर

विश्वविद्यालय कुलपति ने बताया कि ये सभी मरीज भी कोरोना वारियर्स हैं। जिन्होंने इलाज के दौरान अनुशासनपूर्वक कोविड-19 अस्पताल प्रशासन का इलाज के दौरान सहयोग किया तथा चिकित्सकों एवं हेल्थ केयर वर्कर्स द्वारा बताये गये जरूरी सलाह को माना। और आज वह पूरी तरह ठीक हो कर अस्पताल से डिस्चार्ज हो रहे हैं। विश्विद्यालय में 23 अप्रैल को आने तथा कोविड-19 अस्पताल में इलाज होने के बाद इनकी सैम्पलिंग गाइडलाइन के अनुसार की गयी। जिसमें दोनों सैंपलिंग निगेटिव आई। अब उन्हें इस निर्देश के साथ डिस्चार्ज किया जा रहा है कि यहां से जाने के बाद वह दो हफ्ते सेल्फ क्वारंटाइन में रहेंगे तथा इसके साथ ही उन्हें क्वारंटाइन सम्बन्धित गाइडलान की प्रति दी गयी है। प्रो0 राजकुमार ने यह भी कहा कि जल्द ही विश्वविद्यालय के कोविड-19 अस्पताल में भर्ती अन्य मरीजों के लिए भी इसी प्रकार की खुशखबरी आने की सम्भवाना है।

ये भी पढ़ें-    मोदी-योगी का ये सपना: जिस पर तेजी से हो रहा काम, मिलेगी बड़ी राहत

प्रो0 राजकुमार ने यह भी बताया कि इस अच्छी खबर की जानकारी आगरा प्रशासन को भी दे दी गई है। इसके बाद आगरा प्रशासन ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी, आगरा को इस सम्बन्ध में अवगत् कराया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी आगरा ने मरीजों को लेने के लिए एम्बुलेंस भेजा। जिसमें कोरोना से ठीक हुए मरीजों को जरूरी गाइडलाइन के साथ मुख्य चिकित्सा अधिकारी आगरा द्वारा भेजे गये एम्बुलेंस टीम को हेन्डओवर कर दिया गया। इस दौरान विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डा0 रमाकान्त यादव, कुलसचिव सुरेश चन्द्र शर्मा, चिकित्सा अधीक्षक डा0 आदेश कुमार, नर्सिग अधीक्षिका लवली जेम्स, कोविड-19 के नोडल अधिकारी डा0 रमाकान्त रावत, मीडिया प्रभारी डा0 अमित सिंह, मेडिसिन विभागाध्यक्ष डा0 मनोज कुमार आदि उपस्थित रहे।

मरीजों ने अस्पताल प्रशासन का किया धन्यवाद, फूल देख किए गए विदा

कोरोना महामारी को मात देकर जिन्दगी की जंग जीतने वाले योद्धाओं ने बताया कि डिस्चार्ज होने के बाद उन्हें लग रहा है कि उन्हें तथा उनके परिवार को नयी जिन्दगी मिली है। इसके लिए वह ईश्वर के साथ चिकित्सा विश्वविद्यालय, सैफई के कुलपति प्रो0 डा0 राजकुमार तथा विश्वविद्यालय के कोविड-19 अस्पताल के सभी हेल्थ वर्कर्स का तहेदिल से शुक्रगुजार है। सभी कोरोना योद्धाओं ने यह भी कहा कि यहां आने के बाद उन्हें तथा उनके परिवार का जिस तरह ख्याल रखा गया उसे वह और उन सभी का पूरा परिवार जिन्दगी भर नहीं भूलेगा।

ये भी पढ़ें-   लॉकडाउन में बंपर राहत पैकेज का एलान, इन्हें घर बैठे मिलेंगे 5 हजार रुपए

उन्होंने विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 राजकुमार को इस बात के लिए विशेष धन्यवाद दिया कि उनके द्वारा कोविड-19 मरीजों के लिए चलाये गये योगा एवं ध्यान तथा आयुर्वेदिक काढ़ा का उनके तथा उनके साथी मरीजों पर बेहद सकारात्मक प्रभाव पड़ा। कुलपति महोदय ने कहा कि आयुर्वेदिक काढ़ा एवं नियमित व्यायाम से उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होगी। प्रतिकुलपति डा0 रमाकान्त यादव ने बताया कि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ प्रो राजकुमार द्वारा लिखी गई ‘‘व्यायाम एक आयाम‘‘ नामक पुस्तक, जिसका विमोचन पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री संजय पासवान द्वारा 21 फरवरी को किया गया था, की प्रतियों को इन सभी मरीजों को डिस्ट्रीब्यूट किया गया। इनके विदाई के समय चिकित्सकों एवं हेल्थ वर्कर्स टीम द्वारा फूल देकर एवं ताली बजाकर भेजा गया।

उवैश चौधरी