Top

UP: जहरीली शराब पीने से 22 लोगों ने गंवाई जान, कई की हालत नाजुक

प्रशासन के कई दावों के बाद भी जहरीली शराब का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिसके चलते आजमगढ़ और अंबेडकरनगर जिले के सीमावर्ती गांवों में जहरीली शराब पीने ने 22 लोगों की मौत हो गई, वहीं कई गंभीर हालत में हैं।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkMonikaPublished By Monika

Published on 12 May 2021 5:45 AM GMT

UP: जहरीली शराब पीने से 22 लोगों ने गंवाई जान, कई की हालत नाजुक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आजमगढ़: उत्तर प्रदेश में प्रशासन के कई दावों के बाद भी जहरीली शराब का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिसके चलते आजमगढ़ (​​Azamgarh) और अंबेडकरनगर Ambedkar Nagar) जिले के सीमावर्ती गांवों में जहरीली शराब (poisonous liquor) पीने ने 22 लोगों की मौत (Death) हो गई, वहीं कई गंभीर हालत में हैं। इस मामले की जांच करने दोनों जिलों की पुलिस मौके पर पहुंची। जिसके बाद दो लोगों को इस मामले में हिरासत में ले लिया गया।

दरअसल, आजमगढ़ के पवई थाना क्षेत्र के मित्तूपुर बाजार में सोमवार शाम शराब पीने के बाद 22 लोगों की तबीयत खराब हो गई थी। जिसके बाद उन्हें तुरंत नजदीक के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सोमवार देर रात उनमे से कुछ लोगों की मौत हो गई, जबकि 18 लोगों की मंगलवार को मौत हई। उधर जहरीली शराब पीने से अंबेडकरनगर जिले के जैतपुर, मालीपुर व कटका थाना क्षेत्र के गांवों तक पहुंच गई। यहा सोमवार रात से मंगलवार तक पांच लोगों की मौत हो चुकी है। वहा रहने वाले ग्रामीण इससे ज्यादा मौत की बात कर रहे हैं लेकिन प्रशासन ने इस बात से साफ इनकार कर दिया।

जहरीली शराब मित्तूपुर बाजार से अंबेडकरनगर गई थी. मौत की सुचना पर दोनों जिलों एसपी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। आजमगढ़ पुलिस गुड्डू पुत्र मोती व मोती लाल पुत्र रामदेव को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। ये दोनों ही क्षेत्र के पुराने अवैध शराब कारोबारी हैं।

पांच आरोपियों को हिरासत में लिया गया

बता दें, अंबेडकर नगर के डीएम ने बताया कि जैतपुर थाने में केस दर्ज कर पांच आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। कुछ अन्य आरोपियों की तलाश जारी है। लॉकडाउन के चलते शराब की दुकानों को बंद कर दिया गया था। जिसका फायदा अवैध शराब कारोबारी उठा रहे थे। चोरी छिपे शराब की बिक्री की जा रही थी।

Monika

Monika

Next Story