जौनपुर में विदेश से आए 434 लोग, जिलाधिकारी ने दिए सख्त आदेश

अब तक 11 लोगों के खिलाफ क्वारंटाइन के नियमों को न मानने के कारण एफआईआर दर्ज की गई है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी को इस संबंध में निर्देश दिए गए हैं जिनको 14 दिन से अधिक हो गए लेकिन उनमें किसी प्रकार के लक्षण हैं तो उनको घर से लाकर की प्रशासन द्वारा बनाई गई व्यवस्था में क्वारंटाइन में रखा जाए…

Published by Ashiki Patel Published: March 30, 2020 | 8:29 am
Modified: March 30, 2020 | 8:34 am

कपिल मौर्या 

जौनपुर: जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह के अनुसार जनपद जौनपुर में अब तक 434 लोग ऐसे हैं जो विदेश से आए हैं और लगभग 12080 लोग हैं जो विभिन्न राज्यों से आए हैं। इन सभी को अपने-अपने घरों में बिल्कुल अलग रहना है। किसी को स्पर्श नहीं करना है। क्वारंटाइन नियमों का पालन न करने वालों के खिलाफ सभी थानाध्यक्षों को कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

डीएम ने दिए ये निर्देश

अब तक 11 लोगों के खिलाफ क्वारंटाइन के नियमों को न मानने के कारण एफआईआर दर्ज की गई है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी को इस संबंध में निर्देश दिए गए हैं जिनको 14 दिन से अधिक हो गए लेकिन उनमें किसी प्रकार के लक्षण हैं तो उनको घर से लाकर की प्रशासन द्वारा बनाई गई व्यवस्था में क्वारंटाइन में रखा जाए। इसी प्रकार ऐसे लोग हैं जिनका 14 दिन अभी पूरा नहीं हुआ लेकिन उनमें किसी प्रकार के लक्षण परिलक्षित होते हैं तो उनको भी प्रशासन द्वारा बनाई गई व्यवस्था के अंतर्गत रखा जाए। ऐसे सभी संदिग्ध लोगों के नमूने लेकर बीएचयू में जांच के लिए भेजा जाये।

मिलने से अच्छा फोन कर लें

यह भी उल्लेखनीय है कि सब्जी और खाद्यान्न की जनपद में कोई कमी नहीं है। दुकानें भी खुल रही हैं। बस आवश्यकता यह है कि आप अपने मोहल्ले की दुकान में जाकर के अपना सामान खरीद करके सीधे घर जायें। किसी के घर के सामने ना जाए ना कोई दूसरा आपके यहां आये। कोई रिश्तेदारी जो निभानी है वह जरूर निभाएं लेकिन उनकी घर ना जाकर फोन से बात करते रहें। डीएम ने कहा कि प्रधानमंत्रीजी के आह्वान अनुसार आप सभी अपने घरों में रहें और लक्ष्मण रेखा को पार न करें। खाद्यान्न की कोई कमी न रहे इसके लिए सारे इंतजाम हैं। 6 हजार से अधिक भोजन के पैकेट बनवा करके पूरे जनपद में गरीबों में बटवाए गए हैं। सभी सामाजिक संगठन इस काम में लगे हुए हैं।

ये सारी सेवाएं चालू हैं

5100 श्रमिकों के खातों में सरकार द्वारा रविवार को 1000 रुपये डाल दिए गए हैं। मजिस्ट्रेट और पुलिस लगातार भ्रमण कर रही है और सुनिश्चित कर रही है कि लोग घरों के बाहर अनावश्यक रूप से ना निकलें और सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करें। मंडियों में उचित व्यवस्था की गई है। सभी किसान भाइयों को छूट दी गई है कि वह अपने खेत के उत्पाद लाकर के मंडी के बेचें। भूसे-चारे की गाड़ियों पर कोई रोक नहीं हैं। किराना की दुकानें सुबह 6 से दोपहर 12 बजे तक खुलेंगी। मेडिकल की दुकान 24 घंटे खुली रहेगी। पेट्रोल पंप खुले हुए हैं। ब्रेड बिस्किट बनाने वाले अपनी फैक्ट्री भी चला सकते हैं तथा उनकी बिक्री भी कर सकते हैं।

सक्षम हैं तो आस-पड़ोस वंचितों का ख्याल रखें

हर तहसील में एसडीएम द्वारा कम्यूनिटी किचन चलाए जा रहे हैं। इनमें से सबको पूड़ी-सब्जी, पुलाव के पैकेट बनाकर उपलब्ध कराये जा रहे हैं। घबराने की जरूरत नहीं है। सतर्कता बरतें। कोई समस्या हो तो कंट्रोल रूम के नंबरों पर सूचना दें। सभी से अपील है कि धैर्य रखें। इस संकट की घड़ी में हम सब को एकजुट रहना है। जनता से भी अपील है कि जो लोग सक्षम हैं, वह अपने आस-पड़ोस में जरूर देखें। अगर कोई भूखा हो तो उसकी मदद करें।