Top

बलिया में भी गंगा नदी किनारे मिले 45 शव, जिला प्रशासन बोला- बिहार से आए

बलिया के नरही थाना क्षेत्र में गंगा के तट पर भारी संख्या में शव मिले हैं। बकौल प्रत्यक्षदर्शियों शवों की संख्या 45 है।

Anoop Hemkar

Anoop HemkarReporter Anoop HemkarShreyaPublished By Shreya

Published on 11 May 2021 3:25 PM GMT

बलिया: गंगा नदी के तट पर मिले 45 शव, जिला प्रशासन ने कहा बिहार से आए
X

सांकेतिक फोटो साभार- सोशल मीडिया

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बलिया: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बलिया जिले (Ballia) के नरही थाना क्षेत्र में गंगा नदी (Ganga River) के तट पर भारी संख्या में शव मिलने से सनसनी फैल गई है। जिला प्रशासन ने शवों की संख्या की जानकारी नहीं दी है जबकि प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार शवों की संख्या 45 है।

जिलाधिकारी अदिति सिंह ने एक विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी है कि नरही थाना क्षेत्र के बलिया-बक्सर पुल के नीचे गंगा नदी में सोमवार को कुछ पुराने अज्ञात क्षत-विक्षत शव देखे गए। उप जिलाधिकारी सदर व क्षेत्राधिकारी सदर द्वारा इसकी जांच की गई। सभी शवों को उचित तरीके से गंगा नदी के तट पर पुलिस एवं प्रशासन की उपस्थिति में अंतिम संस्कार कर दिया गया। शवों के आने के स्रोत के संबंध में जांच की जा रही है।

जिलाधिकारी ने नहीं दी शवों की संख्या की जानकारी

प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार, बिहार की सीमा पर स्थित नरही थाना क्षेत्र के गंगा नदी के तट पर कल शाम से शव मिलने शुरू हुए। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, उजियार घाट, कुल्हड़िया घाट और भरौली घाट पर कुल 45 शव मिले हैं, हालांकि प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी संख्या की पुष्टि नहीँ कर रहे हैं। सूचना विभाग द्वारा जारी विज्ञप्ति में जिलाधिकारी अदिति सिंह ने शवों की संख्या की जानकारी नहीं दी है।

पुलिस अधीक्षक डॉ विपिन ताडा ने भी शवों की संख्या की जानकारी को लेकर कोई स्पष्ट जबाब नहीं दिया। उन्होंने बताया कि उन्हें नहीं मालूम कि कुल कितने शव मिले हैं। उन्होंने बताया कि पुराने शव हैं। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि बिहार में शव को प्रवाहित करने की परंपरा है। घटनास्थल पर पहुंचे एक अधिकारी के अनुसार नदी तट पर हवा का रुख देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि यह शव बिहार की तरफ से बहकर आये हैं।

जिला प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि बिहार में गरीब लोग ऑक्सीजन लेवल कम होने अथवा कोविड से मौत हो जाने के बाद आर्थिक तंगी के कारण शवों को नदी में प्रवाहित कर देते हैं। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार शव मिलने का सिलसिला अभी भी जारी है। गंगा नदी के तट पर भारी संख्या में शव मिलने से सनसनी फैल गई है।

Shreya

Shreya

Next Story