Top

UP पुलिस को मिले 52 जाबांज फाइटर्स, हाई रिस्क से निपटेंगे चुटकी में

By

Published on 2 July 2016 4:37 PM GMT

UP पुलिस को मिले 52 जाबांज फाइटर्स, हाई रिस्क से निपटेंगे चुटकी में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

[nextpage title="NEXT" ]up-police-01

लखनऊ: बड़े-बड़े अपराधियों को पल भर में धूल चटा देने वाले जाबांज 52 फाइटर का पहला दस्ता शनिवार को यूपी पुलिस की एटीएस विंग में शामिल हो गया। इस मौके पर यूपी के डीजीपी जावीद अहमद के अलावा एडीजी (लॉ एंड आर्डर) दलजीत सिंह चौधरी, आईजी एटीएस असीम अरुण, एसएसपी एटीएस राजेश पांडेय समेत कई अन्य आलाधिकारी मौजूद थे। डीजीपी ने इन फाइटर्स के रणकौशल को खूब सराहा और हालिया चुनातियों के हिसाब से ऐसे जवानों की जरूरतों पर बल दिया।

चीतें सी फुर्ती और लोमड़ी से दिमाग वाले 52 फाइटर का यह दस्ता पलक झपकते ही बड़े से बड़े अपराधी का काम तमाम कर सकता हैं। आईजी एटीएस असीम अरूण ने बताया कि इन फाइटर्स को केवल हाई रिस्‍क ऑपरेशन के लिए तैयार किए गया है। इन फाइटर्स को वीआईपी सिक्योरिटी के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता।

कुछ इस तरह की है ट्रेनिंग

आईजी एटीएस असीम अरुण ने बताया कि इन फाइटर्स को इस तरह से प्रशिक्षित किया गया है कि इसमें फाइटर्स दोनों ऑख खोलकर फायर करना, अपनी रायफल (मशीन पिस्टल) MP-5 को बदलकर पिस्‍टल को बदलकर फायर करना शामिल है।

फाइटर्स को डबल टैप सिखाया गया, जिसका मतलब है एक ही साथ 2 राउंड फायर करना। इसके अलावा कमरे की तलाशी लेने आदि की प्रक्रिया सिखाकर अन्‍तर्राष्‍ट्रीय प्रशिक्षण मानकों के अनुरुप इन फाइटर्स को तैयार किया गया है।

फिलिपींस की मार्शल आर्ट PTK (Pekiti Trisia Kali) सिखाने के लिए लेफ्‍टीनेंट साहिल चोपड़ा और उनकी टीम ने फाइटर्स को खाली हाथ की लड़ाई, किसी हमलावर अपराधी से खाली हाथ होने पर भी उसके हथियार (चाकू,पिस्‍टल आदि) को छीनते हुए प्रहार करने की ट्रेनिंग दी गई है ।

आपात स्थिति में दरवाजे को तोड़ना, दीवार पर चढ़ना, छत से उतरना और किसी बिल्डिंग में बलपूर्वक प्रवेश करते हुए किसी अपराधी को गिरफ्‍तार करना या किसी किडनैप किए गए व्यक्ति को मुक्‍त कराने का भी प्रशिक्षण दिया गया।

इन कमांडो ने दी फाइटर्स को ट्रेनिंग

फाइटर्स के चयन के बाद दो महीने तक 14 घंटे की कड़ी ट्रेनिंग अलग से दी गई। जिसमे एक्स डीएसपी एसपीजी एलएन शर्मा, हेड कांस्टेबल डीआर चौधरी (बीएसएफ) इसके अलावा एसटीएफ कमांडो सुधीर सिंह, सुबोध सिंह, राम मगन, जिलेदार यादव, चंद्रकेश और दुर्ग विजय कुमार शामिल थे।

आगे की स्लाइड्स में देखिए और फोटोज...

[/nextpage]

[nextpage title="NEXT" ]

up-police-04

[/nextpage]

[nextpage title="NEXT" ]

up-police-02

[/nextpage]

[nextpage title="NEXT" ]

up-police-03

[/nextpage]

[nextpage title="NEXT" ]

up-police-05

[/nextpage]

[nextpage title="NEXT" ]

up-police-06

[/nextpage]

Next Story