टीकमगढ़ में फंसे थे गर्भवती सहित 88 लोग, क्यों बोले, धन्यवाद योगी जी !

टीकमगढ़ में फँसे थे गर्भवती महिला समेत यूपी के 88 लोग, जानकारी मिलते ही सीएम योगी ने लगाई अधिकारियों की टीम, घर पहुँचे लोगों ने कहा धन्यवाद योगी जी। पढ़िये पूरा मामला और वह आवेदन जिसका हुआ ऐसा जोरदार असर

टीकमगढ़ में फँसे थे गर्भवती महिला समेत यूपी के 88 लोग, जानकारी मिलते ही सीएम योगी ने लगाई अधिकारियों की टीम, घर पहुँचे लोगों ने कहा धन्यवाद योगी जी। पढ़िये पूरा मामला और वह आवेदन जिसका हुआ ऐसा जोरदार असर

सेवा में

श्री योगी आदित्यनाथ जी

माननीय मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश

आदरणीय महराज जी

सादर नमन, वंदन

मैं आपका आभार जताना चाहता हूँ। देश बन्दी की स्थिति में 25 मार्च 2020 को मैं भी लखनऊ स्थित अपने आवास पर था। मेरे फोन की घण्टी बजी। उधर से मेरे पड़ोस के गाँव के रामश्याम दुबे बोल रहे थे। उन्होंने जानकारी दी कि 80 लोगों के साथ मुम्बई से चली बस मध्य प्रदेश के छतरपुर और टीकमगढ़ के बीच गरौली गाँव के हनुमान मंदिर पर पुलिस ने देश बन्दी की वजह से रोक ली है। इसमें एक गर्भवती महिला और कुछ छोटे बच्चे भी शामिल हैं। सभी सवारियाँ मुम्बई में अलग-अलग स्थानों से बैठी थीं। दुबे जी मुझसे मदद चाहते थे।

तनिक देर तक मैं खुद समझ नहीं पा रहा था कि मदद कैसे करूँ। दो राज्यों का मामला है। मैं मदद करना भी चाहता था क्योंकि ये लोग मेरी जन्मभूमि सन्तकबीरनगर/ बस्ती के रहने वाले थे। कुछ देर सोचने के बाद मैंने आपके दफ्तर,

मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर 1076 पर कॉल किया और ट्वीटर पर भी आपको टैग करते हुए मदद माँगी।

तनिक देर बाद आपके कार्यालय से फोन आया। उन्होंने जानकारी दी कि आपकी ओर से वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए हैं और संबंधित अधिकारी मध्य प्रदेश के अधिकारियों से बातचीत करके बस को आगे रवाना करने की कोशिश कर रहे हैं।

थोड़ी ही देर बाद यह बस एमपी पुलिस ने छोड़ दी। और जब यह संदेश मैं लिख रहा हूँ तो बस बस्ती जिले की सीमा में पहुँच चुकी है। ये सभी यात्री सन्तकबीरनगर, बस्ती और सिद्धार्थनगर जिलों के निवासी हैं और मुम्बई में छोटे-मोटे काम करके आजीविका चलाते हैं। सभी आपके हृदयतल से आभारी हैं। साधुवाद दे रहे हैं। मैं उनकी ओर से उनके प्रतिनिधि के रूप में आपका आभार व्यक्त करना चाहता हूँ और प्रभु श्रीराम से प्रार्थना करता हूँ कि वे आपको स्वस्थ रखें जिससे आप ज्यादा से ज्यादा लोगों की मदद कर सकें।

गोरखपुर में हिंदुस्तान अखबार के संपादक के रूप में मैंने आपकी कार्यशैली देखी थी। मुख्यमंत्री के रूप में इतना करीब से देखने का मौका नहीं मिला लेकिन मुझे भरोसा था कि अगर हमारे महराज जी तक बात पहुँची तो इन सभी की मदद जरूर होगी और वैसा ही हुआ। मैं पुनः इस जनसेवा के लिए आपको बधाई देता हूँ। सादर नमन, वंदन करता हूँ।

इस काम में विशेष सहयोग करने वाले सभी अधिकारी भी साधुवाद के पात्र हैं। उत्तर प्रदेश को आप जैसे सख्त और जनसेवी मुख्यमंत्री की जरूरत लंबे समय तक बनी रहेगी।

सादर

ये जानकारी वरिष्ठ पत्रकार और हिंदुस्तान के पूर्व संपादक श्री दिनेश पाठक के ज़रिए सीएम आफिस को मिली थी। पूरी हेल्थ जाँच के बाद घर पहुँचाए गए लोग।

(दिनेश पाठक की फ़ेसबुक वाल से मुख्यमंत्री जी को संबोधित पत्र और पूरी घटना साभार)