Top

ABVP स्टूडेंट्स का प्रदर्शन, यूनीवर्सिटी के तीनों गेटों पर लगाया ताला

By

Published on 2 Aug 2016 1:41 PM GMT

ABVP स्टूडेंट्स का प्रदर्शन, यूनीवर्सिटी के तीनों गेटों पर लगाया ताला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबादः इलाहबाद यूनिवर्सिटी में मंगलवार को स्टूडेंट्स ने जम कर हंगामा किया। यूनिवर्सिटी के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् छात्र संगठन (एबीवीपी) ने अपनी 14 सूत्रीय मांगों के समर्थन में सुबह साढ़े नौ बजे ही मुख्य कैम्पस के सभी तीनों प्रवेश द्वारों पर जबरन ताला लगा दिया। प्रदर्शन कर रहे स्टूडेंट्स ने कैम्पस में कुलपति के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

एबीवीपी ने किया हंगामा

-एबीवीपी के स्टूडेंट्स ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में जम कर हंगामा किया।

-प्रदर्शन कर रहे स्टूडेंट्स ने पीजी प्रवेश परीक्षा को रद्द करने की मांग की।

-स्टूडेंट्स का कहना है कि इसमें बड़े पैमाने पर धांधली हुई है।

ये भी पढ़ें...इलाहाबाद में SRN अस्पताल के संविदाकर्मी नर्सों की हड़ताल जारी

-पीजी प्रवेश परीक्षा की जांच रिपोर्ट को सार्वजानिक करने की मांग की है।

-एलएलबी प्रवेश परीक्षा की तिथि घोषित करने को कहा है।

-यूनिवर्सिटी की लापरवाही के चलते बार कौंसिल ने सीट घटा दी है।

-इसका खामियाजा स्टूडेंट्स को भुगतना पड़ रहा है।

-ऐसे दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई की जाए।

-कैम्पस को 5 दिन की बजाय 6 दिन चलाया जाए।

-डिग्री कालेजों के PG की फीस काम की जाए।

-कुलपति इन मांगो पर बात नहीं करेंगे तो गेटों पर ताला नहीं खुलेगा।

ये भी पढ़ें...इलाहाबाद यूनिवर्सिटी नहीं रखती प्रोफेसर की रिसर्च एक्टिविटी का RECORD

क्या कहता है प्रशासन?

स्टूडेंट्स के कई मांगों को वीसी ने मान लिया है और जहां तक पीजीएटी प्रवेश परीक्षा की बात है उसमें कोई अनियमितता नहीं हुई है लिहाजा इसे रद्द नहीं किया जायेगा। प्रदर्शनकारी स्टूडेंट तुरंत आंदोलन ख़त्म करें। आंदोलनरत एबीवीपी स्टूडेंट्स के द्वारा कैम्पस में तालाबंदी से कुलपति रजिस्ट्रार दफ्तर समेत सभी कार्यालयों के कर्मचारियों और अधिकारियों को खासी परेशानी उठानी पड़ी है। स्टूडेंट्स का आरोप है कि कल ही कुलपति को ज्ञापन दिया गया था। इसपर संवादहीनता की स्थिति बनी हुई है जिसके बाद उन्हें ये कदम उठाना पड़ा।

Next Story