×

Meerut News: कांवड़ यात्रा के लिए प्रशासन ने की ये खास तैयारी, एनएच-58 से नहीं गुजरेंगे भारी वाहन

Meerut News: मेरठ प्रशासन ने कांवड़ यात्रा को लेकर तैयारी शुरू कर दी है। पुलिस प्रशासन ने 14 से 26 जुलाई तक एनएच-58 पर भारी वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध लगा दिया है।

Sushil Kumar
Updated on: 5 July 2022 4:30 PM GMT
Meerut News Administration has made special preparations for Kanwar Yatra, heavy vehicles will not pass through NH-58
X

मेरठ: कांवड़ यात्रा के लिए प्रशासन ने की खास तैयारी: photo - social media

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Meerut News: पश्चिमी यूपी की सबसे बड़ी धार्मिक यात्रा (कांवड़ यात्रा) (Kanwar Yatra) कोरोना (Coronavirus) के कारण दो साल नहीं निकलने के बाद 14 जुलाई से शुरू होगी। मेरठ प्रशासन ने कांवड़ यात्रा को लेकर तैयारी शुरू कर दी है। पुलिस प्रशासन ने 14 से 26 जुलाई तक एनएच-58 पर भारी वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस बीच करीब 12 दिन तक वाहनों को गाजियाबाद से मेरठ के बीच वाया हापुड़ निकाला जाएगा। पुलिस अफसरों के मुताबिक कांवड़ यात्रा को देखते जल्द ही रूट मैप जारी किया जाएगा।

शिवरात्रि पर 26 जुलाई को शिवमंदिरों में गंगाजल चढ़ेगा

एडीजी मेरठ जोन राजीव सभरवाल (ADG Meerut Zone Rajiv Sabharwal) ने मुजफ्फरनगर, मेरठ और गाजियाबाद के पुलिस कप्तानों को बुधवार को मेरठ बुलाया है। इस मीटिंग में कांवड़ यात्रा की सुरक्षा के साथ-साथ रूट पर मंथन होगा। शिवरात्रि पर 26 जुलाई को शिवमंदिरों में गंगाजल चढ़ेगा। 12 जुलाई से यूपी के साथ, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान आदि स्टेट के कांवड़िए गंगोत्री, गौमुख, उत्तरकाशी, ऋषिकेश, हरिद्वार से कांवड़ लेने जाना शुरू हो जाएंगे।

हरिद्वार से कांवड़ लेकर निकलने वाले कांवडि़यों का दिल्ली एनएच 58 हरिद्वार हाईवे से रुड़की, मुजफ्फरनगर, मेरठ, गाजियाबाद होकर दिल्ली की सीमा तक जाना होता है। कांवड़ का दूसरा मुख्य मार्ग चौधरी चरण सिंह कावड़ पटरी मार्ग (गंगनहर पटरी) है। यह मार्ग हरिद्वार से गाजियाबाद के मुरादनगर तक जाता है। उसके बाद दिल्ली मार्ग से जुड़ जाता हैं।

रैपिड रेल के कार्य के साथ-साथ कांवड़ यात्रा भी

इस बार दिल्ली के कांवड़ियों को परेशानी हो सकती है। दरअसल, दिल्ली से मेरठ के बीच देश की पहली रैपिड रेल का करीब 78 किलोमीटर लंबाई में निर्माण चल रहा है। मेरठ जिले में मोदीपुरम, मेरठ शहर, परतापुर गाजियाबाद जिले में मोदीनगर, मुरादनगर और गाजियाबाद शहर में इस निर्माण से अक्सर जाम लगता रहता है। सड़क के दोनों तरफ सिर्फ सर्विस लेन से ट्रैफिक (traffic) को निकाला जा रहा है।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (एनसीआरटीसी) दिल्ली रोड पर चल रहे रैपिड रेल के कार्य को रोके नही जाने की बात कह रहा है। एनसीआरटीसी अधिकारियों का कहना है कि बैरिकेडिंग लगाकर कार्य को जारी रखा जाएगा। जिससे रैपिड रेल के कार्य के साथ-साथ कांवड़ यात्रा भी सुचारु रुप से चलाई जा सके।

पुलिस अफसरों के मुताबिक भारी वाहन दिल्ली से यूपी गेट होते हुए विजयनगर एनएच 24 पर आएंगे। यहां से डासना तिराहा, पिलखुवा, हापुड़ होते हुए साइलो पुलिस चौकी द्वितीय से किठौर और वहां से तेजगढ़ी चौराहे से सोहराबगेट बस स्टैंड पर पहुंचेंगे। यहां से जेल चुंगी होते हुए मवाना, रामराज, मीरापुर, जानसठ, सिखेड़ा, जानसठ बाईपास, भोपा बाईपास, पंचेड़ा बाईपास, रामपुर तिराहा, देवबंद से झबरेड़ा और हरिद्वार पहुंचेंगे। वापस लौटने वाले मार्ग में थोड़ा बदलाव होगा, इसका भी मैप जल्द जारी किया जाएगा।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story