×

NGT के आदेश पर डूब क्षेत्र में 10 फार्म हाउस सील, जमीन पर सेना कर रही दावा

aman

amanBy aman

Published on 29 Sep 2017 5:18 AM GMT

NGT के आदेश पर डूब क्षेत्र में 10 फार्म हाउस सील, जमीन पर सेना कर रही दावा
X
NGT के आदेश पर डूब क्षेत्र में 10 फार्म हाउस सील, जमीन पर सेना कर रही दावा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नोएडा: नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश पर जिला प्रशासन की टीम ने सिचाईं विभाग ने पुलिस के साथ मिलकर नंगला-नंगली में निमार्णाधीन 10 फार्म हाउसों को सील कर दिया है। यह फार्म हाउस अवैध तरीके से खादर क्षेत्र में बनाए जा रहे थे।

बता दें, कि उसी भूमि पर सेना भी अपना दावा कर रही है। इसके इतर जिला प्रशासन ने करीब 80 एकड़ में बने अन्य फार्म हाउसों को ढहाने के लिए नोएडा प्राधिकरण को पत्र लिखा है।

ये भी पढ़ें ...NGT के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे सकती है उत्तराखंड सरकार

आदेश की उड़ी धज्जियां

एसडीएम सदर अंजनी कुमार सिंह ने बताया, कि एनजीटी ने 5 मई 2013 को दिए गए आदेश में डूब क्षेत्र में किसी भी प्रकार का निर्माण नहीं होने का आदेश जारी किया था। इसके सापेक्ष प्रदेश शासन 2014 में हुई बैंक में डूब क्षेत्र में जमीन पर अतिक्रमण या निर्माण कार्य रोकने या अतिक्रमण हटाने की पूरी जिम्मेदारी प्राधिकरण को दी गई थी। इसमें जिला प्रशासन से भी सहयोग के लिए कहा गया था। बावजूद इसके पिछले कुछ माह से डूब क्षेत्र में एक नहीं बल्कि 10 फार्म हाउस बनाए जाने की जानकारी मिली थी।

ये भी पढ़ें ...NGT: सार्वजनिक स्थान पर कूड़ा जलाने पर 5,000 से लेकर 25,000 तक का जुर्माना

डीएम ने दिए निर्देश

जानकारी मिलने पर डीएम ने निर्माण कार्य रोकने के आदेश जारी किए। जिसके बाद गुरुवार को पुलिस व सिचाईं विभाग द्वारा संयुक्त रूप से काम करते हुए सभी दस फार्म हाउसों पर नोटिस चस्पा कर उन्हें सील कर दिया गया।

सेना ने पेश किया दावा

एसडीएम ने बताया, कि इस जमीन पर सेना अपना दावा पेश कर रही है। इसी के मद्देनजर उन्होंने डीएम के निर्देश पर नोएडा प्राधिकरण को पत्र लिखकर अन्य फार्म हाउस ढहाने के लिए पत्र लिखा है। यह जमीन करीब 80 एकड़ में फैली है। जहा अन्य कई फार्म हाउस भी बने हैं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story