Top

मुलायम के ताल ठोकते ही टॉप गियर में अखिलेश सरकार, प्रवीर को झटका

By

Published on 16 Aug 2016 11:40 PM GMT

मुलायम के ताल ठोकते ही टॉप गियर में अखिलेश सरकार, प्रवीर को झटका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः स्वतंत्रता दिवस पर सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह ने सरकार और पार्टी के हालात को लेकर गुस्से से भरी ताल क्या ठोकी, 24 घंटे के भीतर ही अखिलेश यादव सरकार टॉप गियर में दौड़ती नजर आने लगी। सरकार की इस दौड़ का खामियाजा मंगलवार को सीनियर आईएएस प्रवीर कुमार को भुगतना पड़ा। महज 30 दिन के कार्यकाल के बाद ही उन्हें नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस-वे प्राधिकरणों के चेयरमैन और यमुना एक्सप्रेस-वे के सीईओ पद से हटाते हुए 30 मिनट में रिलीव कर दिया गया। प्रवीर को अब यूपी रोडवेज का अध्यक्ष और दिल्ली में अपर स्थानिक आयुक्त बनाया गया है। बता दें कि आलोक रंजन के बाद प्रवीर कुमार भी चीफ सेक्रेटरी पद की दौड़ में थे।

प्रवीर को हटाए जाने के बारे में कहा जा रहा है कि उन्होंने बिना इजाजत के नोएडा के वीवीआईपी गेस्ट हाउस में अपने पौत्र के जन्मदिन की पार्टी की थी। यही सीएम अखिलेश को नागवार गुजरी। वैसे प्रवीर कुमार के मुताबिक नोएडा में पौत्र का बर्थ-डे मनाने की जगह नहीं थी और इसी वजह से उन्होंने वीवीआईपी गेस्ट हाउस को चुना था। बता दें कि नोएडा में प्रवीर कुमार को बंगला तक नहीं मिला था। जो बंगला उन्हें मिलना चाहिए था, उस पर बतौर ओएसडी एक अन्य आईएएस आराधना शुक्ला जमी हुई हैं। प्रवीर इस वजह से दिल्ली में ही रह रहे थे।

रमारमण के पक्ष में खड़ी हुई सरकार

सरकार इसके साथ ही इलाहाबाद हाईकोर्ट में नोएडा अथॉरिटी के सीईओ पद पर रमारमण को बनाए रखने पर भी अड़ गई। सरकार ने अदालत में कहा कि रमारमण करोड़ों के महत्वपूर्ण प्रोजेक्टों पर काम कर रहे हैं। तबादला बोर्ड उनको नोएडा से हटाने पर सहमत नहीं है। कोर्ट में अब इस बारे में 19 अगस्त को सुनवाई होगी। बता दें कि तीनों अथॉरिटी के सीईओ पद पर लंबे वक्त से रमारमण के बने रहने पर हाईकोर्ट ने सवाल उठाए थे। साथ ही उन्हें हटाने का आदेश दिया था।

संजय अग्रवाल बने नंबर-2 ब्यूरोक्रेट

टॉप गियर में सरकार के आने के साथ ही सीनियर आईएएस संजय अग्रवाल भी सूबे में चीफ सेक्रेटरी दीपक सिंघल के बाद नंबर टू ब्यूरोक्रेट हो गए हैं। संजय अब नोएडा के तीनों प्राधिकरणों के चेयरमैन बनाए गए हैं। वह पहले से ही प्रमुख सचिव ऊर्जा, प्रमुख सचिव अवस्थापना और औद्योगिक विकास और प्रमुख सचिव एनआरआई विभाग हैं। साथ ही संजय अग्रवाल पावर कॉरपोरेशन, राज्य विद्युत उत्पादन और पारेषण निगम और जल विद्युत निगम के चेयरमैन भी हैं।

मुलायम ने इस तरह ठोकी थी ताल

स्वतंत्रता दिवस पर सपा दफ्तर में पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल सिंह के इस्तीफे की धमकी को लेकर सीएम अखिलेश यादव, उनके तमाम मंत्रियों और अफसरों को निशाने पर लिया था। मुलायम ने बाकायदा अखिलेश की तरफ इशारा करते हुए कहा था कि इन्होंने पार्टी बरबाद कर दी। साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि अफसर भी गड़बड़ करते हैं और मंत्री हैं कि बंगलों से निकलकर गांवों में रात बिताने नहीं जाते। मुलायम ने साथ ही ये चेतावनी भी दी थी कि अगर मैं खड़ा हो गया तो इस तरह के सब लोग भाग जाएंगे।

Next Story