×

हिंदू महासभा ने किया शरिया अदालत की तर्ज पर हिंदू अदालत का ऐलान

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 16 Aug 2018 8:52 AM GMT

हिंदू महासभा ने किया शरिया अदालत की तर्ज पर हिंदू अदालत का ऐलान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मेरठ: अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने हिंदू धर्म को खतरे में बताते हुए मेरठ में शरिया कोर्ट की तर्ज पर भारत की पहली हिंदू अदालत स्थापित करते हुए पहली न्यायाधीश एक महिला को नामित करने का एलान किया गया है। 15 नवंबर को नाथूराम गोडसे के फांसी के दिन अलीगढ़, हाथरस, मथुरा, फिरोजाबाद और शिकोहाबाद में हिंदू अदालत की स्थापना कर दी जाएगी। जल्द 15 अदालतें स्थापित करने का लक्ष्य है।

यह भी पढ़ें .....अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा की धमकी- अगर रिलीज हुई ‘पद्मावती’ तो होगा आंदोलन

मेरठ में अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अशोक शर्मा ने आज देश की पहली हिंदू अदालत की स्थापना की जानकारी दी। अशोक शर्मा के अनुसार अलीगढ़ निवासी डॉक्टर पूजा शकुन पांडे को कल स्थापित हिंदू अदालत का पहली हिंदू जज भी घोषित कर दिया गया है। पूजा शकुन पांडे 2 अक्टूबर को इस अदालत का बायलॉज भी पेश कर देंगी। हिंदू महासभा नेता साथ ही एससी-एसटी ऐक्ट हिंदुओं को आपस में भिड़ाने वाला बताया है।

हिंदू महासभा का कहना है कि हिंदू अदालत का लाभ परेशान लोगों को मिलेगा। जमीन, मकान, दुकान, विवाह, पारिवारिक विवाद आदि मामले आपसी सहमति से सुलझाए जाएंगे। उनका कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ की तरफ से की गई उपेक्षा की वजह से भी अदालत गठित करनी पड़ी है। महासभा ने कहा कि पीएम और सीएम को पत्र लिखकर कहा गया था कि भारत में एक ही संविधान माना जा सकता है। देश में खुली और खुलने वाली शरई अदालतों को तत्काल बंद कराया जाए नहीं तो हिंदू महासभा हिंदू अदालत 15 अगस्त को खोल देगी। महासभा का कहना है कि पत्र का जवाब नहीं आने पर बुधवार को अदालत की स्थापना का ऐलान कर दिया गया।

यह भी पढ़ें .....हिंदू महासभा ने मनाई नाथूराम गोडसे की जयंती, कहा- मंदिर जरुर बनवाएंगे

हिंदू अदालत की पहली न्यायाधीश के नाम पर नामित डॉक्टर पूजा शकुन पांडे का कहना है कि उन्हें यह पद हासिल होने पर गर्व है। उन्होंने अपने बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उन्होंने हिंदुओं की राजनीति की है और वह पीएचडी भी हैं। शकुन ने कहा कि वह कानून जानती हैं और इस अदालत में हर जरूरतमंद को इंसाफ दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी अदालत को उसी तरह किसी की मान्यता की जरूरत नहीं है जिस तरीके से बिना मान्यता के खुद के कानून पर शरिया अदालतें चल रही हैं।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story