Top

4 लाशों के बीच लिए सात फेरे, पिता-मामा नहीं कर सके कन्यादान

Admin

AdminBy Admin

Published on 23 April 2016 5:10 AM GMT

4 लाशों के बीच लिए सात फेरे, पिता-मामा नहीं कर सके कन्यादान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

झांसीः बुंदेलखंड के झांसी जिले में शुक्रवार को दूल्हा-दुल्हन ने लाशों के बीच सात फेरे लिए। भांजी का तिलक चढ़ाने जा रहे मामा सहित चार की कार पलटने से मौत हो गई। इससे शादी का माहौल मातम में बदल गया।

क्या है मामला?

-झांसी के मऊरानीपुर थाना क्षेत्र के पुरानी मऊ निवासी जवाहर सिंह की मौत हो चुकी है।

-उनकी बेटी मनीषा का विवाह ढोड़ा निवासी सुनील सिंह के साथ तय हुआ था।

-मनीषा की शादी 22 अप्रैल को होनी थी।

-21 अप्रैल को मनीषा का परिवार तिलक लेकर कार से ढोड़ा जा रहा था।

यह भी पढ़ें...हिंदू-मुस्लिम ने की शादी, दंगे के डर से नहीं दे रहे मैरिज सर्टिफिकेट

-सकरार थाना क्षेत्र में अचानक कार पलट गई।

-इसमें चार लोगों की मौत हो गई और कुछ लोग घायल हो गए।

-इसकी सूचना मिलते ही शादी का माहौल मातम में बदल गया।

परिजनों ने क्या कहा?

-इसकी जानकारी दूल्हे और उसके परिजनों को हुई तो वे भी अस्पताल पहुंच गए।

-मनीषा के पिता की मौत के बाद उसके मामा कन्यादान दे रहे थे।

-उनकी इस हादसे में मौत हो गई।

-पिता के बाद मामा की मौत को लेकर कहीं समाज मनीषा को दोषी न मानने लगे।

यह भी पढ़ें...शादी से एक दिन पहले दूल्हा हुआ फरार, दहेज में मांग रहा था कार

-इस कारण सुनील ने फैसला लिया कि वह मनीषा से तय समय पर ही शादी करेगा।

-दूल्हे के इस फैसले की जानकारी दोनों परिवारों को हुई तो उनकी आखें भर आई।

-दुल्हन के रिश्तेदार राजू सिसोदिया ने कन्यादान किया।

-इसके बाद नम आखों और गमगीन माहौल के बीच मनीषा ने सात फेरे लिए।

Admin

Admin

Next Story