×

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने किया चक्का जाम, योगी सरकार को दी बड़े आंदोलन की धमकी

योगी सरकार की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही है। कभी किसान तो कभी शिक्षक और अब आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने आंदोलन शुरू कर दिया हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने राज्य कर्मचारी का दर्जा दिए जाने, मानदेय बढ़ाने आदि की मांगों को लेकर  गुरुवार (5 अक्टूबर) को प्रदेश में हड़ताल शुरू कर दी हैं।

priyankajoshi
Updated on: 5 Oct 2017 12:59 PM GMT
आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने किया चक्का जाम, योगी सरकार को दी बड़े आंदोलन की धमकी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

गोरखपुर: योगी सरकार की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही है। कभी किसान तो कभी शिक्षक और अब आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने आंदोलन शुरू कर दिया हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने राज्य कर्मचारी का दर्जा दिए जाने, मानदेय बढ़ाने आदि की मांगों को लेकर गुरुवार (5 अक्टूबर) को प्रदेश में हड़ताल शुरू कर दी हैं।

ये भी पढ़ें... प्रेरणास्रोत: दिव्यांग युवक ने नहीं हारी हिम्मत, DM के हाथों मिला मानदेय

योगी सरकार पर लगाया आरोप

गोरखपुर की कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं ने योगी सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया। आंगनबाड़ियों ने नगर निगम परिसर स्थित पार्क में धरना- प्रदर्शन पिछले 18 सितंबर से चल रहा था। प्रदर्शन कर रहे आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की मानें तो नगर निगम में धरना प्रदर्शन अनवरत चल रहा है, लेकिन प्रशासन का कोई भी अधिकारी इनकी सुध लेने नहीं आया। उनका कहना है कि अधिकारियों के पास इनका कोई भी मांग पत्र नहीं पहुंचा, जिससे कार्यकर्ता विवश होकर शास्त्री चौक पर चक्का जाम किया।

ये भी पढ़ें... प्रेरणास्रोत: दिव्यांग युवक ने नहीं हारी हिम्मत, DM के हाथों मिला मानदेय

करेंगी बड़ा आंदोलन

आंगनबाड़ियों का कहना है कि इसके बाद भी मांगे नहीं मानी गई, तो इससे भी बड़ा आंदोलन होगा और लखनऊ जा कर हम लोग कुछ भी करने को बाध्य होंगे। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का कहना है कि 10 अक्टूबर को इसी क्रम में सभी लखनऊ पहुचेंगी

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story