Top

भूख और गरीबी से तंग युवक ने लगा ली आग, बहन की शादी के लिए नहीं थे पैसे

Admin

AdminBy Admin

Published on 23 Feb 2016 1:01 PM GMT

भूख और गरीबी से तंग युवक ने लगा ली आग, बहन की शादी के लिए नहीं थे पैसे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

महोबा: बुंदेलखंड में सूखे की मार से कराह रहे लोग अब मौत को गले लगाने से भी नहीं हिचक रहे हैं। महोबा में आर्थिक तंगी से जूझ रहे एक युवक ने खुद को आग लगा ली। गरीबी से जूझ रहे युवक का परिवार रोटी बैंक के निवालों पर जिंदा है। आर्थिक तंगी से परेशान युवक को मौत का रास्ता आसान लगा। युवक को गंभीर हालत में कानपुर मेडिकल रेफर किया गया है। उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। इस घटना से परिवार सदमे में हैं।

बुंदेलखंड में सूखे से पनपी बदहाली और भुखमरी को दूर करने के शासन के प्रयास नाकाफी नजर आ रहे हैं। आए दिन होती आत्महत्याएं बुंदेलखंड की बदहाली को बयां करती है। महोबा जनपद भी बदहाली का दंश झेल रहा है।

mahoba--3

आर्थिक तंगी थी वजह

महोबा में मंगलवार को उमर नाम के युवक ने आर्थिक तंगी और बहन की शादी की चिंता में खुद को आग लगा ली। दरअसल युवक उमर एसपी आवास के पीछे बनी कांशीराम कॉलोनी में विधवा मां और बहन के साथ रहता है।

रोटी बैंक पर निर्भर था परिवार

उमर घरों की रंगाई-पुताई का काम करता है। लेकिन बीते महीनों में उसे कभी-कभी ही काम मिला था। बेरोजगारी के कारण उमर के घर में पिछले दो माह से चूल्हा तक नहीं जला था। उमर का परिवार महोबा में चलने वाले रोटी बैंक से मिलने वाले खाने पर निर्भर था।

mahoba---2

90 फीसदी जला है युवक

परिवार वालों ने बताया कि उमर पारिवारिक खर्चों और बहन की शादी को लेकर चिंतित था। गरीबी से तंग उमर को मौत का रास्ता ज्यादा आसान लगा। उसने मंगलवार को घर में ही खुद को आग लगा ली। 90 फीसदी जल चुके उमर को आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने उसकी हालत नाजुक देख कानपुर रेफर कर दिया। भूख से लड़ रहे उमर की ज़िंदगी अस्पताल में मौत से लड़ रही है। इस घटना से उमर का परिवार गम में डूबा है।

Admin

Admin

Next Story