Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

NGO फंडिंग पर अपर्णा बोलीं- अच्छा काम करने पर मिला ज्यादा फंड, इसमें गलत क्या है

aman

amanBy aman

Published on 4 July 2017 9:26 AM GMT

NGO फंडिंग पर अपर्णा बोलीं- अच्छा काम करने पर मिला ज्यादा फंड, इसमें गलत क्या है
X
NGO फंडिंग पर अपर्णा बोलीं- अच्छा काम करने पर मिला ज्यादा फंड, इसमें गलत क्या है
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव के एनजीओ को सपा सरकार में हुई जबर्दस्त फंडिंग मामले में अब अपर्णा का बयान सामने आया है। एक न्यूज एजेंसी से बात करते हुए अपर्णा ने कहा, 'आयोग द्वारा अनुदान देने में गलत क्या है? अगर कुछ संगठन पशुओं के कल्याण के लिए अच्छा काम कर रहे हैं तो उन्हें वित्तीय मदद क्यों नहीं की जानिए चाहिए?'

बता दें कि समाजवादी सरकार में गौसेवा आयोग की ओर से दिए गए अनुदान का 86 प्रतिशत अपर्णा के एनजीओ को ही दिया गया है। शेष 14 प्रतिशत राशि अन्य को मिले हैं। इस जानकारी के सामने आने के बाद अपर्णा का ये पहला बयान है।

ये भी पढ़ें ...सब कुछ अपर्णा का! गोशाला अनुदान में अखिलेश यादव ने दिखाई अपने परिवार पर दरियादिली

आरटीआई के जरिए हुआ खुलासा

समाजवादी पार्टी के कार्यकाल के दौरान गौशालाओं को दिए जाने वाले सरकारी आवंटन का 86 फीसद, पूर्व सीएम अखिलेश यादव की भाभी और मुलायम सिंह यादव के दूसरे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव के एनजीओ को मिले थे। इस बात का खुलासा एक आरटीआई के जरिए हुआ।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

नूतन ठाकुर ने डाला था आरटीआई

अखिलेश यादव के कार्यकाल के दौरान, गौसेवा आयोग से मिलने वाले गौशाला फंड का बड़ा हिस्सा अपर्णा यादव के एनजीओ 'जीव आश्रय' को ही मिला है। सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर की ओर से पूछे गए सवाल पर यूपी गौ सेवा आयोग ने अपने जवाब में कहा, कि 'सपा सरकार के पांच सालों के कार्यकाल में कुल 9.66 करोड़ रुपए की धनराशि स्वीकृत की गई थी, जिसमें से 8 करोड़ 35 लाख रुपए अपर्णा के एनजीओ को दिया गया है।'

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story