×

Kushinagar: अशोक रौनियार मर्डर, हत्यारोपियों की गिरफ्तारी के लिए दसवें दिन भी परिजन सत्याग्रह पर

Kushinagar: अशोक रौनियार की हत्या के मामले में परिजनों का सत्याग्रह दसवें दिन भी जारी रहा। पीड़ित परिवार दोषियों पर कार्यवाही करने की मांग कर रहा है।

Mohan Suryavanshi
Published on 14 May 2022 10:38 AM GMT
Kushinagar: अशोक रौनियार मर्डर, हत्यारोपियों की गिरफ्तारी के लिए दसवें दिन भी परिजन सत्याग्रह पर
X

परिजनों का सत्याग्रह जारी (फोटो- न्यूजट्रैक) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Kushinagar News Today: कुशीनगर जनपद के सेवरही उपनगर के मृतक अशोक रौनियार के संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के मामले में घटना की जांच तथा आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही की मांग को लेकर परिवार दसवें दिन भी सत्याग्रह आन्दोलन पर बैठा रहा। परिवारजनों का कहना है कि अगर न्याय नहीं मिला तो आमरण अनशन किया जायेगा। पीड़ित परिवार न्याय की मांग व दोषियों पर कार्यवाही को लेकर लगभग दो माह से सड़क से लेकर अधिकारियों के दफ्तर का चक्कर लगाने को विवश है।

रौनियार समाज के जिलाध्यक्ष ने सत्याग्रह का किया समर्थन

कुशीनगर के सेवरही में मृतक अशोक के मामले में रौनियार समाज के जिलाध्यक्ष रामगोपाल गुप्ता ने धरना स्थल पर पहुँच अपना समर्थन दिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने तथा दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही की मांग को लेकर रौनियार समाज आन्दोलन को मजबूती प्रदान करेगा तथा किसी भी संघर्ष से पीछे नहीं हटेंगे। सेवरही के रामजानकी मन्दिर परिसर में मृतक अशोक के परिजनों के सत्याग्रह आन्दोलन को सम्बोधित करते हुए रौनियार समाज के जिलाध्यक्ष रामगोपाल गुप्ता ने यह बात कही।

हत्यारोपितों की गिरफ्तारी व कार्यवाही की मांग किये जाने को लेकर जारी आन्दोलन को सम्बोधित करते हुए रामगोपाल गुप्ता ने कहा कि पुलिस की उपस्थित में सभी साक्ष्य मौके पर उपलब्ध होने के बावजूद धनबल व राजनीनिक संरक्षण के बल पर हत्यारोपियों को अभय दान दिया जा रहा है। जबकि पीड़ित परिवार न्याय की मांग व दोषियों पर कार्यवाही को लेकर लगभग दो माह से सड़क से लेकर अधिकारियों के दफ्तर का चक्कर लगाने को विवश है। लेकिन संगठन की शक्ति के आगे इंसाफ की लड़ाई लड़ना कठिन नहीं है। जल्द ही रौनियार समाज के लोग भारी संख्या में पहुँच आंदोलन को मजबूती प्रदान करने का कार्य करेंगे।

वहीं, पीड़ित परिवार ने कहा कि न्याय की लड़ाई में उनका आंदोलन शांतिपूर्ण तरीके से अनवरत चल रहा है। इस कड़ी में शासन प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराने हेतु कैण्डिल मार्च निकाला जायेगा। इसके बाद भी यदि उनकी मांग को अनसुना किया गया तो जल्द ही सत्याग्रह आन्दोलन को आमरण अनशन में तबदील किया जायेगा।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story