×

विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना की पहल दूसरे राज्यों में भी, 'राजगुरू' और 'चाणक्य' की दी गयी संज्ञा

UP News: यूपी विधानसभा की नई कार्यशैली की चर्चा दिल्ली, मध्यप्रदेश, हरियाणा और बिहार के अलावा अन्य राज्यों में भी खूब हो रही है।

Network
Written By Network
Published on: 12 Sep 2022 3:59 AM GMT
Satish Mahana
X

उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना (photo: social media ) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

UP News: उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना की नई कार्य शैली दूसरे राज्यों के लिए एक नया रास्ता तैयार कर रही है। उत्तर प्रदेश के विधानसभा सदस्यों के प्रति पुरानी धारणा को बदलने की जो शुरुआत हुई है। उसकी चर्चा अब दूसरे राज्यों में भी सुनाई देने लगी है। राजस्थान में इन दिनों इस बात पर चर्चा हो रही है कि उनकी विधानसभा को भी अपने पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश से बहुत कुछ सीखने की जरूरत है। यूपी विधानसभा की नई कार्यशैली की चर्चा दिल्ली, मध्यप्रदेश, हरियाणा और बिहार के अलावा अन्य राज्यों में भी खूब हो रही है। यहां का जनसामान्य इस बात को स्वीकार कर रहा है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना की पहल और आगे बढ़नी चाहिए। इससे सदन में राजनीतिक दलों के सदस्यों के बीच बढ़ती कटुता कम होगी। साथ ही जनता के उनके कार्य की जवाबदेही को भी बढ़ाया जा सकेगा। इसका सीधा लाभ जनता को मिल सकेगा।

राजस्थान के एक मीडिया समूह ने विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना द्वारा अलग अलग समूहों की बैठकों के आयोजन की सराहना करते हुए उन्हे एक 'राजगुरू' और 'चाणक्य' की संज्ञा दी है। साथ ही यह भी कहा है कि इन बैठकों के सकारात्मक प्रेरणादायक एवं विकास की रजत रेखा खींचने वाले परिणाम आए है। महिला समूहों की भागीदारी पर कहा गया है कि सरकार के कामकाज को लेकर जब भी कोई रूपरेखा बनती है तो उसमें महिला सदस्यों की भागीदारी नहीं हो पाती है। जिसे विधानसभा अध्यक्ष ने समझने का काम किया है। उत्तर प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष सतीश महाना ने महिला विधायकों को आगे लाने के लिए उन्हें आश्वस्त किया है कि आगामी मानसून सत्र के दौरान एक दिन केवल महिला सदस्यों के लिए रखा जाएगा।

बतातें चलें कि विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना ने पिछले दिनों विधानसभा के डॉक्टर, इंजीनियर, प्रबंधन, महिला युवा और पांच बार से अधिक जीतकर आए विधायकों के समूह बनाकर उनसे संवाद किया और उन्हे सलाह दी कि वह जनसेवा के दौरान अपनी प्रतिभा का सदुपयोग करें जिससे जनसामान्य और अधिकारियों के बीच राजनीति के प्रति आमधारणा को बदला जा सके।

इसलिए अब कहा जाने लगा है कि देश की राजनीति में उत्तर प्रदेश की वैसे तो एक अलग छवि है लेकिन विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना ने जो कर दिखाया है उसकी जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। राजनीतिक क्षेत्र में यह बड़ी पहल भविष्य के लिए मील का पत्थर साबित होने जा रही है।

Monika

Monika

Next Story