×

लगातार आयोजित दो भर्तियों में ही भारांक दिया जाएगा : कोर्ट

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Aug 2018 3:56 PM GMT

लगातार आयोजित दो भर्तियों में ही भारांक दिया जाएगा : कोर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

इलाहाबाद : हाईकोर्ट ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद होने वाली सहायक अध्यापको की लगातार आयोजित दो भर्तियों में ही ढाई अंक का भारांक देने का उपबन्ध है। भारांक को जोड़कर परिणाम घोषित करने का नहीं है। कोर्ट ने कहा है कि 1981 की सेवा नियमावली के नियम 14 के परन्तुक में 25 जुलाई 2017 के बाद लगातार आयोजित दो भर्तियों में ही भारांक दिया जायेगा।

कोर्ट ने ढाई अंक भारांक जोड़कर परिणाम घोषित करने के तर्क को सही नही माना और नियमावली को स्पष्ट करते हुए याचिका निस्तारित कर दी है।

यह आदेश न्यायमूर्ति डी के सिंह नेकुल भूषण मिश्र व अन्य की याचिका पर दिया है।याचिका में 27 मई 2018 को हुई सहायक अध्यापक भर्ती 2018 शिक्षा मित्र के रूप में कार्य का प्रतिवर्ष ढाई अंक भारांक जोड़कर परीक्षा परिणाम घोषित करने की मांग की गयी थी। नियमावली के अनुसार हाईस्कूल, इंटरमीडिएट व बीटीसी के साथ लिखित परीक्षा के अंक जोड़े जाने का तरीका अपनाया जायेगा। यह भी व्यवस्था है कि शिक्षा मित्र के रूप में कार्य करने का प्रत्येक वर्ष ढाई अंक भारांक जोड़कर 25अंक से अधिक नहीं होगा,दिया जायेगा। राज्य सरकार ने नियमावली में बदलाव करते हुए केवल लगातार दो भर्तियो में ही भारांक देने की व्यवस्था की है। इसे जोड़कर परीक्षा परिणाम घोषित करने की मांग नहीं मानी जा सकती।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story