×

UP Election 2022: प्रियंका गांधी का "लड़की हूं लड़ सकती हूं" का नारा धराशाई, अमेठी में कांग्रेस को नहीं मिल रहीं महिला प्रत्याशी

UP Election 2022: यूपी विधान सभा चुनाव में कांग्रेस अपनी खोई हुई जमीन वापस पाने के लिए प्रियंका गांधी को जिम्मेदारी दी है।यू पी प्रभारी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी आधी आबादी के सहारे पुनः उत्तर प्रदेश में सत्ता पाने के लिए मैं लड़की लड़ सकती हूं का नारा दिया है।

Surya Bhan Dwivedi

Report Surya Bhan DwivediPublished By Divyanshu Rao

Published on 14 Jan 2022 11:22 AM GMT

UP Election 2022
X

प्रियंका गांधी की तस्वीर 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

UP Election 2022: अमेठी जिले में यूपी विधान सभा चुकाव में प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) आधी आबादी के सहारे कांग्रेस (Congress) की खोई हुई जमीन वापस लाने की जद्दोजहद में लगी हुई है। वहीं गांधी परिवार की कर्म स्थली अमेठी में प्रियंका गांधी का लड़की हूं लड़ सकती हूं का नारा धराशाई होता दिखाई पड़ रहा है। अमेठी कांग्रेस को महिला प्रत्याशी ढूढे नहीं मिल रही है।

यूपी विधान सभा चुनाव में कांग्रेस अपनी खोई हुई जमीन वापस पाने के लिए प्रियंका गांधी को जिम्मेदारी दी है।यू पी प्रभारी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी आधी आबादी के सहारे पुनः उत्तर प्रदेश में सत्ता पाने के लिए मैं लड़की लड़ सकती हूं का नारा दिया है। फिलहाल अपनी प्रतिज्ञा के अनुसार पहली सूची में महिलाओं को टिकट देकर दांव चला है।

प्रियंका गांधी

वहीं अमेठी में प्रियंका गांधी का यह नारा साकार होता नही दिखाई दे रहा है।पहली सूची में कांग्रेस ने दो सीटों पर टिकटों का ऐलान कर दिया है।जिसमे जगदीश पुर विधान सभा सीट से विजय पासी को मैदान में उतारा है।वही तिलोई सीट पर प्रदीप सिंघल को टिकट दिया है।पहली सूची में एक भी महिला प्रत्याशी कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को नहीं मिला।

जिले में अभी 2 सीटों पर टिकट घोषणा होना बाकी है जिसमें गौरीगंज और अमेठी की विधानसभा सीटें शामिल हैं। फिलहाल कांग्रेसमें गौर करें तो इन 2 सीटों के लिए महिला प्रत्याशी नजर नहीं आ रही हैं गौरीगंज से अभी तक अपनी उम्मीदवारी को लेकर पुरुष प्रत्याशी के मैदान में डटे हुए हैं। महिला प्रत्याशी सामने नहीं दिखाई पड़ रही है।वही हाल अमेठी विधान सभा में भी है।

महिला कैंडिडेट की घोषणा होना बहुत मुश्किल लग रहा है गौरतलब है कि अमेठी जिले के तिलोई विधानसभा से सुनीता सिंह कांग्रेश की पुरानी और कद्दावर नेता हैं उन्होंने भी टिकट के लिए आवेदन किया था फिलहाल पहली सूची जारी होने के बाद उन्हें भी निराशा ही हाथ लगी है अब देखना दिलचस्प होगा कि प्रियंका गांधी का यह नारा लड़की हो लड़ सकती हूं अमेठी में कैसे साकार होगा।इस तरह कांग्रेस को अमेठी में महिला कैंडिडेट ढूढने में पसीना छूट रहा है।

Divyanshu Rao

Divyanshu Rao

Next Story