×

Ayodhya Mein deepotsav : दीपावली में होने वाले अयोध्या के दीपोत्सव में इस बार जलेंगे 9 लाख दीयें - योगी आदित्यनाथ

Ayodhya Mein deepotsav : अयोध्या में होने वाले दीपोत्सव पर इस साल 9 लाख मिट्टी के दीये जलाएं जाएंगे।

Network

NetworkNewstrack NetworkVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 17 Oct 2021 2:37 PM GMT

ayodhya deepotsav
X

अयोध्या में दीपोत्सव (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Ayodhya Mein Deepotsav : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि प्रधानमंत्री (pradhanmantri awas yojana) व मुख्यमंत्री आवास योजना (mukhyamantri awas yojana) के तहत शहरी क्षेत्र में 9 लाख गरीब परिवार को घर दिए जा चुके है। इस दिवाली पर उन परिवारों के गृह प्रवेश की खुशी पर अयोध्या में होने वाले दीपोत्सव (deepotsav in ayodhya 2021) पर 9 लाख मिट्टी के दीये जलाएं (Ayodhya Mein 9 Lakh Diye Jalenge) जाएंगे। ये दीये अयोध्या के प्रजापति समाज द्वारा बनाए गए हैं।

साथ ही सरकार की ओर से शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में दिए गए 42 लाख आवासों में भी एक-एक मिट्टी का दीया जलाया जाएगा। यह बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भाजपा पिछड़ा वर्ग के समाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहीं।

 मिट्टी का दीया (फोटो- सोशल मीडिया)

मिट्टी से जुड़े कारीगरों की बनाई मूर्ति से पूजा

उन्होंने कहा कि इस बार दिवाली में विदेश से आई लक्ष्मी गणेश की मूर्ति की नहीं बल्कि अपने मिट्टी से जुड़े कारीगरों की बनाई मूर्ति से पूजा होना चाहिए। इस अभियान के साथ हम सबको जुड़ना होगा। भारतीय जनता पार्टी ने सामाजिक संपर्क अभियान के तहत रविवार को सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन की शुरूआत की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबका साथ, सबका विकास का मंत्र दिया था। लेकिन पिछली सरकारें सबका साथ अपना विकास के नारे पर काम कर रही थी। पिछली सरकारें साथ सबका चाहती थी । लेकिन विकास अपना करती थी। उन्होंने कहा कि पर्व और त्योंहार में जब कमाई का समय आता था तो प्रदेश को दंगों की आग में झोंक दिया जाता था।

इससे प्रदेश पिछड़ता चला गया। मिटटी के कारीगरों के कारोबार चौपट हो गए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले प्रजापति समुदाय के लोगों के बनाए मिटटी के बर्तन बिकते नहीं थे। 2017 में हमारी सरकार आने के बाद जानलेवा प्लास्टिक पर बैन लगाया। मिट्टी से जुड़े कारीगरों को पहचान देने के लिए माटीकला बोर्ड का गठन किया।

मिटटी के बर्तन (फोटो- सोशल मीडिया)

कारीगरों को बर्तन बनाने के लिए निःशुल्क इलेक्ट्रिक चॉक वितरित किए। इससे जो कारीगर पहले 70 बर्तन बनाते थे, वह 400 बर्तन तैयार कर रहे हैं। माटीकला बोर्ड की ओर से आयोजित प्रदर्शनियों के जरिए उनके व्यापार को बढ़ावा दिया गया। सरकार की योजना प्रजापति समुदाय और मिट्टी से जुड़े कारीगरों के लिए स्वावलंबन का आधार बनी।

मूर्तियों के जरिए सिर्फ कमाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि दीपावली पर चीन में बनी लक्ष्मी गणेश की मूर्तियां बाजार में छा जाती थी। उन्होंने कहा चीन एक नास्तिक देश है। वह भगवान की मूर्तियों को सही आकार नहीं दे पाता हैं। वह मूर्तियों के जरिए सिर्फ कमाई करता है। माटीकला बोर्ड के गठन के बाद अब प्रदेश में भी लक्ष्मी-गणेश की आकर्षक मूर्तियां बन रही है। अपनी मिटटी से बनी मूर्तियों में साक्षात लक्ष्मी-गणेश का वास नजर आता है।

योगी जी ने कहा कि अपने कारीगरों व मिट्टी से तैयार लक्ष्मी-गणेश से पूजा करेंगे तो लक्ष्मी आपके घर वास करेंगी। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि पहले से ही योगी फोबिया से ग्रस्त सपा अब भाजपा मेनिया का भी शिकार हो गई है।

उन्होंने कहा कि शायद यही वजह है कि सपा के युवराज को भाजपा की केंद्र व उत्तर प्रदेश में आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकारों द्वारा किये गए काम नजर नहीं आते।

भाजपा (फोटो- सोशल मीडिया)

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी गरीबों की पार्टी है। साधारण परिवार में जन्म लेने वाले लोगों ने इस पार्टी को बनाया और आज उन्हीं के कारण भाजपा यहां तक पहुंची है। उन्होंने कहा कि यह किसी जाति की पार्टी नहीं है बल्कि इस पार्टी में प्रत्येक जाति का नेतृत्व है।

2022 में कमल ही खिलेगा खिलकर रहेगा

यहां किसी भी जाति का व्यक्ति कल का प्रदेश अध्यक्ष हो सकता है । कल नेतृत्व भी कर सकता है। एक साधारण परिवार में जन्म लेने वाले पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने पंक्ति के अंतिम व्यक्ति के मान, सम्मान, भरपेट भोजन, रहने को छत और समाज में उसको उचित प्रतिष्ठा के लिए अंत्योदय को आधार बनाकर राजनीतिक दल की नींव रखीं।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि 'वोट कटवा' लोगों से सावधान रहना है, उनकी साजिश का शिकार ना होना है और ना अपनों को होने देना है। सम्मेलन में आये पिछड़े वर्ग के लोगों की ओर मुखातिब होते हुए श्री मौर्य ने कहा कि आपके चेहरे की चमक बता रही है, 2022 में कमल ही खिलेगा खिलकर रहेगा, भाजपा आप की पार्टी है, यह किसी प्रदेश या परिवार की पार्टी नहीं है, इसका साधारण से साधारण कार्यकर्ता बड़े से बड़े पद पर पहुंचता है।

मौर्य ने कहा कि विरोधियों की साजिश का शिकार नहीं होना है । सारी दीवारें ढहाकर, सारे भेद भुलाकर सबने कमल को जिस तरह से खिलाया था, उसी तरह से इस बार भी 2022 में भी ईवीएम में कमल के सामने वाला बटन दबाकर भारतीय जनता पार्टी के कमल को खिलाना है।

नरेंद्र मोदी के साथ पिछड़ा वर्ग की ताकत

उन्होंने कहा पिछड़े वर्ग की ताकत भाजपा के साथ है, जिस तरह से राम के साथ हनुमान और लक्ष्मण थे, उसी तरह से नरेंद्र मोदी के साथ पिछड़ा वर्ग की ताकत है। भाजपा मोदी जी के सबका साथ-सबका विकास के संकल्प को लेकर चलती है।

इससे पहले कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पं. दीनदयाल उपाध्याय तथा महाराज दक्ष प्रजापति व डा. रत्नाप्पा कुंभार के चित्रों पर पुष्पार्चन करके किया।

इसके साथ ही पार्टी के 17 से 31 अक्टूबर तक होने वाले सम्मेलनों का श्री गणेश हुआ। जबकि समापन सत्र को उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद प्रसाद मौर्य ने सम्बोधित किया। प्रदेश के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, औद्योगिक विकास राज्यमंत्री धर्मवीर प्रजापति, राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के उपाध्यक्ष लोकेश प्रजापति तथा पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कश्यप ने भी सम्मेलन को सम्बोधित किया।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story