×

Ayodhya News: अवध विश्वविद्यालय का 26वां दीक्षांत समारोह, महामहिम ने 107 विद्यार्थियों को दिया पदक

Ayodhya News: डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के 26वें दीक्षांत समारोह में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल शामिल हुईं। इस समारोह में स्नातक, परास्नातक के साथ अन्य पाठ्यक्रमों में सर्वाधिक अंक प्राप्त किए 107 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक देकर उन्हें सम्मानित किया।

NathBux Singh
Report NathBux SinghPublished By Deepak Kumar
Published on: 20 Dec 2021 10:48 AM GMT
Ayodhya News In hindi
X

बच्चों को सम्मानित करते हुए राज्यपाल आनंदीबेन पटेल। 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Ayodhya: डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय (Dr. Ram Manohar Lohia Avadh University) के 26वें दीक्षांत समारोह (26th Convocation) में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Governor Anandiben Patel) शामिल हुईं। कुलाधिपति ने दीक्षांत समारोह (26th Convocation) में स्नातक, परास्नातक के साथ अन्य पाठ्यक्रमों में सर्वाधिक अंक प्राप्त किए 107 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक देकर उन्हें सम्मानित किया। इसमें 30 कुलपति स्वर्ण पदक, 60 कुलाधिपति स्वर्ण पदक, 17 दान स्वरूप पदक प्रदान किए गए। इसके अतिरिक्त 1201 स्नातक, परास्नातक उपाधि एवं पीएचडी में 23 उपाधि शोधार्थियों को प्रदान की गई।

समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए महामहिम ने कहा कि राष्ट्र के विकास में विश्वविद्यालय का महत्वपूर्ण योगदान होता है। यहां उच्च कोटि की शिक्षा दी जाती है। विद्यार्थियों को ज्ञान-शील बनाने के साथ-साथ उन्हें एक आदर्श नागरिक के रूप में विकसित करना भी विश्वविद्यालय का उद्देश्य होता है। उन्होंने 26 वें दीक्षांत समारोह (26th Convocation) में छात्र छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि यहां पर उपस्थित बहुत से विद्यार्थी अपनी आजीविका के लिए अपने जीवन के नए चरण में प्रवेश करेंगे।


राज्यपाल ने कहा कि एक वास्तविक शिक्षक वह है जो विद्यार्थियों के स्तर पर आकर उन्हें समझाने का प्रयास करता है और अपने ज्ञान का स्थानांतरण उनमें करता है। शिक्षक ज्ञान के निर्माण की प्रक्रिया में विद्यार्थियों के साथ भागीदारी निभाएं एवं कक्षा में ज्ञान सृजन के लिए लोकतांत्रिक वातावरण का निर्माण करें। ''सा विद्या या विमुक्तये अर्थात विद्या वह है जो हमें बंधनों से मुक्त कर अपना कर्तव्य करना सिखाए। एक समृद्ध जीवन जीने के लिए शिक्षा का होना जरूरी है और किसी भी देश का भविष्य उसके नागरिकों के शैक्षणिक स्थिति पर निर्भर करता है।

किसी भी देश का विकास उस देश के अपनी भाषा से जुड़ा होता: राज्यपाल

राज्यपाल ने कहा कि किसी भी देश का विकास उस देश के अपनी भाषा से जुड़ा होता है। नई शिक्षा नीति (new education policy) में मातृ-भाषाओं पर पर्याप्त बल दिया गया है। मातृभाषा में शिक्षा दिए जाने से यह विद्यार्थियों को उनकी पसंद के विषय और भाषा को सशक्त बनाने में मदद करेगा। मुझे प्रसन्नता हो रही है कि अवध विश्वविद्यालय के कुलपति के कार्यकाल में विश्वविद्यालय की कार्यप्रणाली एवं शैक्षिक वातावरण में सकारात्मक रूपांतरण हो रहा हैं। एकता दिवस के अवसर पर सरदार पटेल राष्ट्रीय एकात्मता भवन, मल्टीपर्पज लेक्चर हॉल, कंपलेक्स भवन तथा इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मेसी भवन का वर्चुअल शिलान्यास मेरे द्वारा किया गया। वर्तमान में विश्व विद्यालय में कुल 80 समसामयिक विषयों में अध्ययन का कार्य संचालित करना एक सराहनीय कार्य है। ग्रामीण अंचलों तक शिक्षा की पहुंच सुनिश्चित करना उत्तर प्रदेश सरकार का मुख्य ध्येय है।


कुलाधिपति ने नई शिक्षा नीति 2020 को ध्यान दिलाते हुए कहा कि डॉ राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय (Dr. Ram Manohar Lohia Avadh University) नई शिक्षा नीति (new education policy) के तहत राजकीय महाविद्यालय, चुग्घूपुर, राजकीय महाविद्यालय खंडासा मिल्कीपुर, अयोध्या राजकीय महाविद्यालय भवानीपुर, इटिया-गोंडा सहित चार महाविद्यालयों का पठन-पाठन एवं शैक्षिक कार्य बहुत कम समय में ही नई शिक्षा नीति 2020 (new education policy 2020) के अनुरूप स्नातक पाठ्यक्रमों का संचालन आरंभ किया। संघटक महाविद्यालय कटरा चुग्धूपुर, सुल्तानपुर का लोकार्पण मेरे द्वारा किया गया यह मेरे लिए हर्ष की बात है।

चार महिला शिक्षिकाओं का विज्ञान अनुसंधान के लिए चयन

महामहिम ने कहा कि आज मुझे अत्याधिक प्रसन्नता हो रही है कि अवध विश्वविद्यालय की चार महिला शिक्षिकाओं को राज्य सरकार द्वारा विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान के लिए चयनित किया गया है। इसी के साथ विश्वविद्यालय में 'महिला अध्ययन केंद्र की स्थापना जिसका प्रमुख उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं की आर्थिक आत्मनिर्भरता बढ़ाना एवं शिक्षित करना है। विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए ग्रामसभा-'मसौधा' की महिलाओं को स्वालंबन हेतु प्रशिक्षित करना कुलपति के उत्कृष्ट कार्यों में से एक है।


विश्वविद्यालय ने सघन वृक्षारोपण अभियान किया आरंभ

भाषा विभाग के अंतर्गत भारतीय भाषाओं में हिंदी सिन्धी, पालि के साथ क्षेत्रीय भाषा भोजपुरी और अवधी भाषा का पठन-पाठन केंद्र खोले गए हैं। क्षेत्रीय भाषा के अध्ययन से क्षेत्र विशेष की भाषा के माध्यम से वहां की अमूल्य साहित्य, संस्कृति और सभ्यता का वैश्विक स्तर पर सम्प्रेषित करने में सफलता प्राप्त होगी। महामहिम ने कहा कि पर्यावरण दिवस पर विश्वविद्यालय द्वारा वृक्षारोपण जन आंदोलन 2021 के तहत 'सघन वृक्षारोपण अभियान आरंभ किया है। उन्होंने कहा कि प्रकृति को खतरा तभी होता है जब हम उसके साथ छेड़ छाड़ करते है जीवनदायी नदियों को स्वच्छ बनाये रखना हम सभी का दायित्व है।

'महिलाओं का स्वस्थ्य होना नितान्त आवश्यक'

कुलाधिपति ने महिला सशक्तीकरण पर प्रकाश डालते हए कहा कि महिलाओं का स्वस्थ्य होना नितान्त आवश्यक है वर्तमान समय में सरकार के अथक प्रयासों से स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ी है। इसी वजह से बच्चें के जन्म के समय चिकित्सालय की ओर जाने वालों की संख्या में अशातीत वृद्धि हुई हैं, इसे मिलकर हम सभी को मिलकर सत प्रतिशत करना होगा। बेटी-बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान को व्यापक असर यह हुआ है कि अब बेटियों की जन्म दर में उत्साह वर्धक वृद्धि देखी गई है। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान सभी समाज के ब्रांड एम्बेस्डर होते है। इसी कारण समाज के संथान आदर्श होते है।


विश्वविद्यालय को 43 वर्षो बाद नैक मूल्यांकन में प्राप्त हुआ बी-ग्रेड

समारोह का स्वागत एवं प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर रविशंकर सिंह ने कहा कि विद्यालय द्वारा विद्यार्थियों को शोध एवं पठन-पाठन की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। विश्वविद्यालय को 43 वर्षो बाद नैक मूल्यांकन में बी-ग्रेड प्राप्त हुआ। विश्वविद्यालय परिवार ने नैक ए-ग्रेड के लिए तैयारियां शुरू कर दी है। कुलपति ने कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप उच्च शिक्षा के क्षेत्र में गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने के लिए विश्वविद्यालय ने सत्र 2021-22 से परिसर एवं सम्बद्ध महाविद्यालयों में स्नातक स्तर पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को लागू कर दिया है। इसके तहत परिसर एवं सम्बद्ध महाविद्यालयों में प्रवेश तथा पठन-पाठन कार्य कराया जा रहा है।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story