×

Balrampur News: भारी जलभराव व अव्यवस्थाओं के बीच केंद्रों पर परीक्षा देने को मजबूर हुए पीईटी अभ्यर्थी

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में आज आयोजित प्रारंभिक अर्हता परीक्षा पीईटी में परीक्षार्थियों को बाढ़ के दौरान जान जोखिम में डालकर..

Network
Newstrack NetworkPublished By Deepak Raj
Updated on: 2021-08-24T19:39:22+05:30
Candidate going to appear in PET exam
X

पानी में चलकर परीक्षा केंद्र की ओऱ जाते आभ्यार्थी

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Balrampur News: उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में आज आयोजित प्रारंभिक अर्हता परीक्षा पीईटी में परीक्षार्थियों को बाढ़ के दौरान जान जोखिम में डालकर परीक्षा देना पड़ रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार की सेवाओं में समूह 'ग' के पदों पर भर्तियों के लिए उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूपीएसएसएससी) ने जिले में पीईटी प्रारंभिक अर्हता परीक्षा आयोजित कराई है।


भारी जलजमाव में परीक्षा केंद्र पर जाते परीक्षार्थी


कई सेंटर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में है स्थित :-

जिले में कई सेंटर भी है, जो बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में बनाए गए हैं। इन परीक्षा केंद्रों तक परीक्षार्थियों को जान जोखिम में डाल कर पहुँचना पड़ रहा है। जिला मुख्यालय स्थित सेंट जेवियर्स हायर सेकेंडरी स्कूल को PET के परीक्षा केंद्र बनाया गया है। लेकिन परीक्षा केंद्र तक परीक्षार्थियों को पहुंचने के लिए काफी मशक्कत करना पड़ रहा है। वहीं, कुबेर मति मेमोरियल इंटर कॉलेज श्रीदत्तगंज ने भी परीक्षार्थियों को पहुंचने के लिए गाठ भर बाढ़ के पानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके अतिरिक्त बलरामपुर नगर में स्थित एमएलकेपीजी कॉलेज में भी भारी जलभराव है। परीक्षार्थियों को परीक्षा कब तक पहुंचने के लिए जलभराव का सामना करना पड़ रहा है।

जिला मुख्यालय पर स्थित केंद्रों पर भी भरा हुआ है पानी


परीक्षा केंद्र पानी से हुआ जलमग्न

जिला मुख्यालय पर स्थित सेंट जेवियर्स स्कूल से पहले बने डिप पर तीन से चार फिट पानी बह रहा है और इसी डिप से निकलकर परीक्षा केंद्र तक परीक्षार्थी पहुँचने को मजबूर है। डिप पर खतरा इतना है कि थोड़ी सी चूक डिप पर करने वालो के जान पर भारी पड़ सकती है। इस डिप पर बाढ़ से निपटने के लिए प्रशासन के द्वारा कोई इंतजाम नही किया गया है।

परीक्षा केंद्रों पर है भारी समस्या

नौकरी पाने के लिए परीक्षा देने आए परीक्षार्थियों ने कहा कि परीक्षा केंद्र तक पहुँचने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं। परीक्षा केंद्र तक पहुँचने के लिए इस डिप पर बह रहे पानी के तेज बहाव को पार करना पड़ रहा है। जोकि काफी खतरे से भरा है। जिला प्रशासन को केंद्र बनाने से पहले इस ओर ध्यान देना चाहिए था।


परीक्षा केंद्र पर जाते अभ्यार्थी

क्या बोले अपर जिलाधिकारी बलरामपुर

इस मामले पर जब अपर जिला अधिकारी वित्त एवं प्रशासन अरुण कुमार शुक्ल से बात किया गया तो उन्होंने कहा कि परीक्षार्थियों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए प्रशासन द्वारा पुलिस की व्यवस्था की गई है जो उन्हें उचित रास्ते से परीक्षा केंद्रों तक भेज रहे हैं। जिले में बाढ़ की समस्या है और पिछले 2 दिनों से बारिश हो रही है। इसलिए जिला प्रशासन कुछ कर नहीं पा रही है।


अभ्यर्थियों की भारी भीड़ और रास्तों में लगे जाम में बसों के फंसने से रोडवेज की व्यवस्था चरमराई

मेरठ में मंगलवार को कड़ी सुरक्षा और कोविड नियमों का पालन कराते हुए उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा आयोग की ओर से पीईटी-2021 यानी प्रारंभिक अर्हता परीक्षा का आयोजन किया गया। कई केंद्रों पर वरिष्‍ठ अफसरों ने भी दौरा करके सुरक्षा व्‍यवस्‍था का जायजा लिया। जिले में कुल 61 हजार 948 अभ्यर्थियों ने पीईटी की परीक्षा के लिए आवेदन किया था। पहली पाली में 30974 वहीं दूसरी पाली में 30974 अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी।


मेरठ के परीक्षा केंद्र का दृश्य

जिलाधिकारी के बालाजी ने आज उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा कराए जा रहे प्रिलिमनरी एलिजिबिलिटी टेस्ट (पीईटी ) परीक्षा के परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण कर वहां की गई व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने सिटी वोकेशनल पब्लिक स्कूल कैंट ,दीवान ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट सहित विभिन्न परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण किया। उन्हें वहां सभी व्यवस्थाएं ठीक मिली। इस अवसर पर अपर जिला अधिकारी नगर अजय तिवारी व अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

परीक्षा केंद्रों पर पेपर शुरू होने के आधे घंटे पहले एंट्री बंद कर दी गई। परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थियों को लगभग एक घंटे पहले पहुंचना है, ताकि एंट्री मिल सके। जिला विद्यालय निरीक्षक गिरिजेश चौधरी ने बताया कि मेरठ में 59 परीक्षा केंद्र बनाए गये थे। सीबीएसई स्कूलों के अलावा सरकारी स्कूलों और डिग्री कालेजों को परीक्षा केंद्र बनाया गया । कोविड नियमों का पालन करते हुए हर केंद्र पर परीक्षा कराई गई है। 59 स्टेटिक मजिस्ट्रेट और 20 सेक्टर मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं। एडीएम सिटी नोडल अधिकारी हैं। प्रारंभिक अर्हता परीक्षा के दौरान अभ्यर्थियों की भारी भीड़ और रास्तों में लगे जाम में बसों के फंसने से रोडवेज की व्यवस्था चरमरा गई। परीक्षा देने के बाद अभ्यर्थियों को बसों की कमी का सामना करना पड़ा।

इनपुट- सुशील कुमार


4759 परीक्षार्थियों ने छोड़ी यूपी एसएसएससी (पीईटी) 2021परीक्षा

Bulandshahar News: यूपी एसएसएससी (पीईटी) 2021 की आज प्रदेश भर में परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है जो 2 पालियों में संपन्न हुई। बुलंदशहर में 2 पालियों में 34 परीक्षा केंद्रों पर 30810 परीक्षार्थियों के सापेक्ष्य 26051 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी, 4759 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। नकल विहीन और पूर्ण पारदर्शिता तरीके से यूपी एस एस एस सी पेट की परीक्षा संपन्न कराने में आज पूरा जिला प्रशासन लगा रहा। परीक्षा केंद्रों पर बाकायदा कोविड-19 नियमों का पालन कराया गया।


बुलंदशहर में पीइटी परीक्षा देते अभ्यार्थी


हाथों को सैनिटाइज कराने के बाद मास्क लगाकर परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्रों के अंदर भेजा गया परीक्षा केंद्रों का बुलंदशहर के जिला अधिकारी रविंद्र कुमार एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने भी औचक निरीक्षण किया। जिला अधिकारी ने बताया कि परीक्षा केंद्रों पर तीसरी आंख के मौजूदगी में परीक्षा चेक कुशल संपन्न हुई है। किसी भी परीक्षा केंद्र पर किसी तरह की गड़बड़ी की सूचना नहीं मिली है।


इनपुट -संदीप तयाल


Deepak Raj

Deepak Raj

Next Story