×

Flood in Bahraich: बाढ़ के पानी से घिरे इस ग्राम पंचायत के लोग, 48 घंटे से सभी हैं भूखे-प्यासे

उत्तर प्रदेश के जनपद बहराइच जिले के महसी तहसील में शनिवार को घाघरा नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया। जिससे तहसील क्षेत्र के 22 से अधिक गांवों में पानी भर गया।

Anurag Pathak

Anurag PathakReport Anurag PathakShashi kant gautamPublished By Shashi kant gautam

Published on 26 July 2021 5:17 AM GMT

flood in up
X

यूपी में बाढ़( फोटो: सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Flood in Bahraich: उत्तर प्रदेश के जनपद बहराइच के मांझा दरिया बुर्द के छह मजरों में बाढ़ आई हुई है। यहां बाढ़ इतनी जबरदस्त है कि दो नदियों से घिरे गांव की स्थिति काफी खराब है। लोगों के घरों में पानी भर गया हैं। पानी भरने से लोग खाना नहीं बना रहे हैं। यहां 48 घंटे से सभी भूखे हैं। अभी तक जिला प्रशासन की ओर से इसकी सुधि ली गई है और न ही खाने का पैकेट मुहैया कराया जा रहा है। ग्रामीणों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के जनपद बहराइच जिले के महसी तहसील में शनिवार को घाघरा नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया था। जिससे तहसील क्षेत्र के 22 से अधिक गांवों में पानी भर गया था। लेकिन रविवार से गांवों में बाढ़ का पानी धीरे-धीरे कम हो रहा है। सरयू नदी का जलस्तर 10 सेंटीमीटर कम हो गया। जिससे गांवों से पानी निकलने लगा है।

लोग भूख व प्यास में गुजार रहे हैं जिंदगी

सबसे खराब स्थिति मांझा दरिया ग्राम पंचायत के मजरों की है। ग्राम पंचायत के मजरा नौवनपुरवा, पाठकपुरवा, जंगलीपुरवा, में स्थिति भयावह हो गई है। यह गांव सरयू और घाघरा नदी के बीच में बसा हुआ है। यहां लोगों के घरों में पानी भर गया है। लोग किसी प्रकार से सुरक्षित स्थान पर जाने को मजबूर हैं। घरों में पानी भर जाने के कारण लोग भूख व प्यासे रह रहे हैं।

प्रशासन की ओर से कोई सहायत नहीं मिली

घरों में पानी भरा होने से लोग खाना नहीं बना पा रहे हैं। तहसील प्रशासन की ओर से खाने का पैकेट भी नहीं मिल रहा है। लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। यहां तहसील प्रशासन के अधिकारी भी नहीं पहुंच पा रहे हैं। 300 की आबादी 48 घंटे से भूखे रहने को मजबूर है । कुल मिलाकर यह स्थिति यही बताती है कि बाढ़ग्रस्त इलाकों की उत्तर प्रदेश सरकार को कोई चिंता नहीं हैं

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story