×

Gonda : 10 माह से गायब पीएचसी डॉक्टर, अस्पताल में भयंकर गंदगी, नदारद मेडिकल अफसर भी

गोंडा में स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल उस खुल गई जब सोमवार को मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बालपुर, नहवा परसौरा तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बरांव का औचक निरीक्षण किया।

Tej Pratap Singh
Published on 15 Nov 2021 3:19 PM GMT
Chief Development Officer Shashank Tripathi
X

 मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Gonda : यूपी के गोंडा जिले में बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल उस खुल गई जब सोमवार को मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बालपुर, नहवा परसौरा तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बरांव का औचक निरीक्षण किया। सीडीओ को निरीक्षण में तीनों प्राथामिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर गन्दगी तथा झाड़ियां उगी हुई मिलीं और मेडिकल अफसर ड्यूटी से नदारद मिले। नाराज मुख्य विकास अधिकारी ने प्रभारी चिकित्साधिकारियों का वेतन अग्रिम आदेशों तक रोकने के आदेश दिए हैं।

सीडीओ के निरीक्षण में पीएचसी बालपुर में मेडिकल अफसर डा. आकांक्षा विगत फरवरी माह से मेडिकल पर बताई गईं। उन्होंने इसे गम्भीरता से लेते हुए सीएमओ को आदेशित किया है कि मेडिकल बोर्ड गठित कर डॉ. आकांक्षा के स्वास्थ्य का परीक्षण कराया जाय।


स्वास्थ्य केन्द्र का भवन अत्यन्त जर्जर

प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र नगवा में सिर्फ फार्मासिस्ट उपस्थित मिला। उसके द्वारा सीडीओ को कोई जानकारी नहीं दी जा सकी। नाराज सीडीओ ने सम्बन्धित फार्मासिस्ट के विरूद्ध कार्यवाही हेतु सीएमओ को निर्देशित किया है। वहां पर निरीक्षण के दौरान ज्ञात हुआ कि डाक्टर लम्बी छुट्टी पर है। सीडीओ ने जांच कर कार्यवाही के आदेश सीएमओ को दिए हैं।


नहवा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का भवन अत्यन्त जर्जर स्थिति में पाया गया। बरांव प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण करने पर अस्पताल में बेहद गन्दगी पाई गई। शौचालय, पेयजल की व्यवस्था बेहद खराब पाई गई।


मुख्य विकास अधिकारी ने सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों का वेतन अग्रिम आदेशों तक रोकते हुए निर्देशित किया है कि अगले 15 दिनों के अन्दर स्वास्थ्य केन्द्रों की साफ-सफाई सुनिश्चित कराते हुए वहां पर तैनात कर्मियों की उपस्थिति सुनिश्चित कराई जाय।

इसी प्रकार खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे पीएचसी परिसर में झांड़-झंखाड़ आदि को कटवाकर साफ कराएं तथा जर्जर भवनों की मरम्मत क्षेत्र पंचायत के माध्यम से कराने की कार्यवाही तत्काल प्रारम्भ कराएं।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story