×

Lucknow Crime News: मनकामेश्वर मंदिर को मिला धमकी भरा पत्र, लखनऊ में पकड़े गए आतंकियों को छोड़ने का दिया अल्टीमेटम

लखनऊ में जिहादियों की तरफ से भेजे गए धमकी भरे पत्र के बाद मनकामेश्वर मंदिर सहित राजधानी के अन्य मंदिरों की भी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। शनिवार सुबह से ही मंदिर पर पुलिस की टीम तैनात है।

Network

NetworkNewstrack NetworkShashi kant gautamPublished By Shashi kant gautam

Published on 1 Aug 2021 3:37 AM GMT

Mankameshwar temple receives threatening letter, ultimatum to release terrorists caught in Lucknow
X

लखनऊ: मनकामेश्वर मंदिर को मिला धमकी भरा पत्र- फोटो- सोशल मीडिया

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Lucknow Crime News: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के डालीगंज में स्थित मनकामेश्वर मंदिर को धमकी भरा पत्र मिला है। जिसके बाद मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। यह पत्र जिहादियों की तरफ से भेजे गए हैं, जिसमें कुछ दिनों पहले लखनऊ में पकड़े गए आतंकियों का जिक्र किया गया है। आतंकियों ने धमकी देते हुए लिखा है कि अगर उनके साथियों को 14 अगस्त तक नहीं छोड़ा गया तो इतना कहर बरपाएंगे कि आपकी हुकूमत हिल जाएगी।

बता दें कि लखनऊ में जिहादियों की तरफ से भेजे गए धमकी भरे पत्र के बाद मनकामेश्वर मंदिर सहित राजधानी के अन्य मंदिरों की भी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। शनिवार सुबह से ही मंदिर पर पुलिस की टीम तैनात है, जो हर आने-जाने वाले की जांच कर रही है। अलीगंज नया हनुमान मंदिर के बाद मनकामेश्वर मंदिर के लिए यह धमकी भरा पत्र मिला है। इसके बाद से पुलिस और खुफिया हरकत में आ गई है। इस पर कार्रवाई करते हुए ज्वाइंट कमिश्नर, क्राइम नीलाब्जा चौधरी ने पूरे मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी है। सभी मंदिरों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम के आदेश दिए हैं।

धमकी भरे पत्र में यह लिखा गया है कि-

''आपको अगाह करता हूं कि हमारे जिन मुजाहिदों को आप की हुकूमत की इनतहाई फिरकापरस्त सोच की वजह से गिरफ्तार कर लिया गया है, उन्हें फौरन रिहा कर दिया जाए। कौम के सब्र का इम्तिहान न लिया जाए। अगर ऐसा न किया गया तो उन्हें मजबूरन हथियार उठाने पड़ेंगे। उस सूरत में लखनऊ शहर का हर बड़ा मंदिर और आरएसएस के दफ्तर हमारे निशाने पर पहले से ही हैं। पूरे शहर में 10 हिंदू हजरात, आप पर हमारी खास तवज्जो भी है, जो कि इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ मुहिम चला रहे हैं। हम इन सब के गले रेतकर उन्हें जल्दी ही दोजख की आग में झोंक देंगे और आपकी काफिर पुलिस के जो मुलाजिम बेगुनाह मुसलमानों को फंसा कर जेल भेज रहे हैं उनका भी हिसाब किया जाएगा। हिंदू औरतों के जिस्म पर इस्लाम का अजाब भर दिया जाएगा। इतना कहर बरपा देंगे कि आपकी हुकूमत हिल जाएगी।

कोई यह न सोचे कि हमे किसी का खौफ है। हम सिर्फ अल्लाह से ही डरते हैं और इसीलिए अपना नाम भी खुले तौर पर लिख रहे हैं। हमें ढूंढने की कोशिश मत करना। आप को हिंदुस्तान की यौमे आजादी यानी कि 15 अगस्त से 1 दिन पहले तक का वक्त दिया जा रहा है। आगे के अंजाम के जिम्मेदार आप खुद होंगे। एक दिन आएगा जब इस मुल्क में निजाम-ए-मुस्तफा कायम करेंगे। सबका इंसाफ होगा और जुल्म का इंतकाम लिया जाएगा।''

मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्या गिरी पूजा-अर्चना करतीं हुईं: फोटो- सोशल मीडिया

लखनऊ के त्रिवेणी नगर डाकघर से भेजा गया है पत्र

बताया जा रहा है कि नया हनुमान मंदिर और मनकामेश्वर में एक ही तरह के धमकी भरे पत्र आए हैं, जिन्हें त्रिवेणी नगर डाकघर से भेजा गया है। नया हनुमान मंदिर अलीगंज के कार्यालय अधीक्षक राकेश दीक्षित के मुताबिक धमकी भरे पत्र को त्रिवेणीनगर डाकघर से भेजा गया है, जिस पर मदेयगंज खदरा निवासी किसी जोगिंदर सिंह का नाम लिखा है। पत्र की गंभीरता को देखते हुए मंदिर प्रशासन ने आने-जाने वालों पर नजर रखनी शुरू कर दी है। साथ ही स्थानीय थाने से भी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है जो हर संदिग्ध पर नजर रख रही है।

लेटर मंदिर परिसर में कोई छोड़ गया था- महंत देव्या गिरी

धमकी भरे पत्र की जानकारी मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्या गिरी ने एडीसीपी प्राची सिंह को दी। महंत देव्या गिरी ने बताया कि लेटर मंदिर परिसर में कोई छोड़ गया था। बरसात के चलते ऊपर का लिफाफा गल गया था। पत्र पर उर्दू शब्द लिखे होने से ध्यान नहीं दिया गया। रात में एडीसीपी का फोन आने पर पत्र के विषय में जानकारी की गई। तब मालूम हुआ कि यही धमकी भरा पत्र अलीगंज हनुमान मंदिर समेत शहर के कई प्रमुख मंदिरों में भेजा गया है। मंदिर की सुरक्षा के लिए एक पुलिस की टीम लगाई गई है। नया हनुमान मंदिर में भी बढ़ी सुरक्षा, दोनों मंदिरों में त्रिवेणीनगर डाकघर से भेजे गए हैं धमकी भरे पत्र

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story