×

IAS इफ्तिखारुद्दीन के खिलाफ SIT की जांच पूरी,अब किसी भी समय शासन ले सकता है कड़े एक्शन

IAS Iftikharuddin : यूपी के कानपुर में इस्लाम का प्रचार और धर्मांतरण के लिए प्रेरित करने वाली तकरीरों से संबंधित वायरल वीडियो के कारण जांच के घेरे में आए इस वरिष्ठ आईएएस की मुश्किलें अब बढ़ना तय हैं।

Sandeep Mishra

Sandeep MishraReport Sandeep MishraVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 14 Oct 2021 10:28 AM GMT

IAS Iftikharuddin
X

आईएएस इफ्तिखारुद्दीन (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

IAS Iftikharuddin : इस्लाम धर्म का प्रचार व कथित धर्मान्तरण के लिए मोटिवेट करने वाली तकरीरों की जांच के घेरे में आये कानपुर मण्डल के तत्कालीन कमिश्नर इफ्तखारुद्दीन (IAS Iftikharuddin ki kitab) के खिलाफ जारी एसआईटी की जांच अब लगभग पूरी हो गयी है।अब एसआईटी अपनी यह रिपोर्ट शासन को एक दो दिन में सम्मिट करने वाली है। एसआईटी की इस जांच रिपोर्ट को देखने क् बाद ही सरकार आईएएस इफ्तखारुद्दीन के लिये कोई बड़ा चौकाने वाला फैसला लेगी।

आईएएस इफ्तखारुद्दीन की अब बढ़ेंगी मुश्किलें

यूपी के कानपुर में इस्लाम का प्रचार (Kanpur Mein islaam ka prachar) और धर्मांतरण के लिए प्रेरित करने वाली तकरीरों से संबंधित वायरल वीडियो के कारण जांच के घेरे में आए इस वरिष्ठ आईएएस की मुश्किलें अब बढ़ना तय हैं।

एसआईटी ने लखनऊ सीबीसीआईडी मुख्यालय पर कानपुर के पूर्व मंडलायुक्त इफ्तिखारुद्दीन (IAS Iftikharuddin ki kitab) के कई बार क्रॉस बयान दर्ज किए हैं।एसआईटी की टीम ने सरकारी आवास पर धर्मांतरण को लेकर हुई सभाओं से जुड़े आठ से अधिक वीडियो के बारे में उनसे गहन सवाल व जवाब भी किये हैं, जिसमें कानपुर मण्डल के यह तत्कालीन कमिश्नर फंसते हुए ही नजर आए हैं।

धर्मान्तरण पर लिखी आईएएस की किताब की प्रति भी टीम के हाथ लगी है

धर्मांतरण मामले की जांच कर रही एसआईटी के अध्यक्ष जीएल मीणा के हाथ आईएएस इफ्तखारुद्दीन की हस्तलिखित किताब (IAS Iftikharuddin ki kitab) की एक प्रति भी बरामद हुई है।इस किताब में अन्य धर्मों के लिये बेहद विरोधाभासी बातें लिखीं गयीं हैं।इस किताब को लेकर भी इस आईएएस से पूछताछ की गई है। एसआईटी ने इस संदर्भ में अपनी जांच लगभग पूरी कर ली है।

एसआईटी जल्द ही यह रिपोर्ट शासन को सौंपेंगी। अब तक मिले साक्ष्यों के आधार पर आईएएस इफ्तिखारुद्दीन की मुश्किलें बढ़ना तय माना जा रहा है। वर्तमान में वह परिवहन निगम के चेयरमैन हैं। गौरतलब है कि कानपुर में मंडलायुक्त रहते हुए इफ्तिखारुद्यीन की तकरीरों के वीडियो पिछले दिनों वायरल हुए थे। इसमें धार्मिक कट्टरता के साथ धर्मांतरण की बातें हो रही है।

इस मामले में अब तक 30 लोगों से हो चुकी है पूछताछ

इस चर्चित प्रकरण पर अब तक करीब 30 लोगों से पूछताछ की जा चुकी है। जिसमें मंडल कार्यालय व आवास के कर्मचारी भी शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार एसआईटी को जांच के दौरान ऐसे 60 वीडियो मिले, जिसमें धर्म प्रचार (Dharma Prachar) संबंधी बैठकों और तकरीरों का जिक्र है।

अब शासन के एक्शन का है इंतजार रिपोर्ट

एसआईटी अब एक दो दिन अपनी यह जांच रिपोर्ट शासन को सम्मिट करने जा रही है।यह यह जांच रिपोर्ट पूरी तरह से तत्कालीन मंडलायुक्त इफ्तखारुद्दीन के खिलाफ ही गयी है।इसलिये यह तय माना जा रहा है कि शासन के एक्शन की गाज अब इस आईएएस गिरेगी।

नियमानुसार इस तरह के धंर्मिक आयोजन अपने सरकारी आवास पर सर्विस नियमावली के बिल्कुल विरुद्ध है।तत्कालीन कमिश्नर कानपुर इफ्तखारुद्दीन ने जो भी आयोजन किये हैं वो सभी नियम विरुद्ध हैं।इसका कोई भी तर्कपूर्ण जवाब एसआईटी टीम को ये आईएएस नही दे पाए हैं।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story