×

'बिलीवर्स ईस्टर्न चर्च लखनऊ डायोसिस' ने घर का सपना किया साकार, बारिश ने तबाह कर दिया था 'निर्मला' का घर और परिवार

Lucknow : राजधानी के 'बिलीवर्स ईस्टर्न चर्च लखनऊ डायोसिस' ने निर्मला के लिए एक नया घर बनाने के लिए कदम उठाया। घर का उद्घाटन लखनऊ डायोसिस के विकास जनरल ने किया।

Shashwat Mishra

Shashwat MishraReport Shashwat MishraVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 13 Oct 2021 1:35 PM GMT

बिलीवर्स ईस्टर्न चर्च लखनऊ डायोसिस ने घर का सपना किया साकार, बारिश ने तबाह कर दिया था निर्मला का घर और परिवार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Lucknow : अगस्त माह में हुई भारी बारिश ने कई परिवारों को संकट में डालने का काम किया। कई परिवार उस बारिश से प्रभावित भी हुए। किसी के घर की छत टूट गई, तो किसी की दीवार टूट गई। लेकिन, सबसे ज़्यादा पीड़ा मिट्टी के घरों में रह रहे परिवारों को उठानी पड़ी। इन्हीं में से एक हैं निर्मला। वह कई वर्षों से मिट्टी और टीन की चादर से बने मकान में रह रही थीं, अगस्त महीने में हुई भारी बारिश के दौरान, पानी उनके घर में घुस गया, जिससे वह आंशिक रूप से नष्ट हो गया और उनके बच्चों के लिए घर में रहना बहुत मुश्किल हो गया था।

इस परिवार की सख्त जरूरत को देखते हुए राजधानी के 'बिलीवर्स ईस्टर्न चर्च लखनऊ डायोसिस' (Believers Eastern Church Lucknow Diocese) ने निर्मला के लिए एक नया घर बनाने के लिए कदम उठाया। घर का उद्घाटन लखनऊ डायोसिस के विकास जनरल ने किया। जब निर्मला अपने लिए नवनिर्मित घर की चाबी प्राप्त कर रही थी, उस वक़्त उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा।


पति व चार बेटियों की हो चुकी है मौत

छह बेटियों और दो बेटों की मां निर्मला एक सामान्य जीवन जी रही थी, जब तक कि उनके परिवार में त्रासदी नहीं हुई थी। निर्मला का भाग्य इस तरह बदला कि उन्होंने उन लोगों को खोना शुरू कर दिया, जिन्हें वह सबसे ज्यादा प्यार करती थी।

सबसे पहले निर्मला ने 15 साल पहले अपने पति को खो दिया था। वहीं, उनकी तीन बेटियों की शादी के बाद मृत्यु हो गई थी। तो, चौथी बेटी घरेलू शोषण के बाद अपने पति से अलग हो गई थी, वह भी गहरे अवसाद में चली गई थी। जिसके बाद, अगस्त 2021 के महीने में वह भी अपनी एक साल की बेटी को निर्मला की देखभाल में छोड़ कर चली गई। उसी महीने निर्मला का घर भी भारी बारिश से तबाह हो गया था।

इस अकथनीय नुकसान और पीड़ा के बीच लखनऊ डायोसिस ने इस विधवा परिवार को नई किरण दिखाई। वह इनके दुःखों को कम तो नहीं कर सकते, मग़र उन्हें भविष्य में कोई और दिक्कत न हो, इस उद्देश्य के साथ लखनऊ डायोसिस ने मदद की। जिसका फल है कि आज निर्मला अपने घर में सुरक्षित रह सकती हैं।


बरेली में भी विधवा महिला को सौंपा घर

बरेली जिले के सीबीगंज के खड़उआ में भी 'बिलीवर्स ईस्टर्न चर्च' द्वारा एक विधवा के घर का निर्माण कराया गया था। घर का उद्घाटन करके चाभी सुखदेव आंटी को दी गई। बिलीवर्स ईस्टर्न चर्च के विकास जनरल फादर अभिषेक सहाय और खंडउआ के सभासद सुखदीश कश्यप और मिशन प्रोविंस फादर अशर्फीलाल सभी लोगों ने बड़े उत्साह के साथ यह घर की चाबी सुखदेव आंटी को दिया।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story