×

Coronavirus : कोरोना की तीसरी लहर को लेकर तैयार है लखनऊ, ऐसी हैं व्यवस्थाएं...

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर यूपी में तैयारियां तेज हैं। हर जिले के सीएचसी-पीएचसी में दवाओं और चिकित्सा उपकरणों को भी पहुंचाया जा रहा।

Shashwat Mishra

Shashwat MishraReport Shashwat MishraAshikiPublished By Ashiki

Published on 14 Sep 2021 4:39 PM GMT

Coronavirus : दुनियाभर में कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी, बढ़ते आंकड़ों की सबसे बड़ी वजह सरकार की ढिलाई
X

(फोटो- न्यूजट्रैक) 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (UP) में कोरोना वायरस (Covid19) की तीसरी लहर को लेकर तैयारियां पूरी हैं। राज्य भर के अलग-अलग जिलों के अस्पतालों में बेडों की क्षमता बढ़ाई जा रही है। ऑक्सीजन प्लांटों का निर्माण हो रहा है। वेंटिलेटर बेड़ों की भी संख्या बढ़ाई गई। साथ ही, पीकू-नीकू वार्ड बनाया जा रहा है। हर जिले के सीएचसी-पीएचसी में दवाओं और चिकित्सा उपकरणों को भी पहुंचाया जा रहा। तो राजधानी लखनऊ में भी तैयारियां तेज़ी से अपने अंजाम की ओर हैं।

कोविड़-19 की तीसरी लहर को लेकर ये है व्यवस्था

• 75 अस्पतालों में 9 हजार बेड़।

• बच्चों के लिए 1000 से अधिक वेंटिलेटर बेड़।

• बच्चों के लिए 500 अतिरिक्त बेड़ों का बैकअप।

• 24 ऑक्सीजन प्लांट ।.

• सीएचसी-पीएचसी में ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर व सिलेंडर।

• दवाओं व मेडिकल सामानों की व्यवस्था।.

• मेडिकल स्टॉफ की ट्रेनिंग पूरी।

11 ऑक्सीजन प्लांट हो गए हैं तैयार

विशेषज्ञों के अनुसार- कोरोना वायरस की तीसरी लहर अक्टूबर में आ सकती है। नोडल इंचार्ज डॉ. अनूप श्रीवास्तव ने बताया कि 'राजधानी में 24 ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने हैं। इसमें से 11 प्लांट तैयार हो चुके हैं। वहीं, 13 पर अभी काम चल रहा है।' उन्होंने बताया कि 'विधायक निधि से बनने वाले पांच ऑक्सीजन प्लांट्स के लिये भी बजट आ गया है। जल्द ही उनका काम भी पूरा किया जाएगा।' गौरतलब है कि पूरे प्रदेश में 550 से अधिक ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। इसमें से 400 से ज्यादा प्लांट तैयार हो गए हैं।


राजधानी के अस्पतालों में पीकू-नीकू के 1025 बेड़ तैयार

लखनऊ के अस्पतालों में पीकू-नीकू वार्ड के 1025 बेड़ तैयार हैं। इसमें 100 बेड़ नीकू और 925 बेड़ पीकू के हैं। तो राजधानी के मुख्य अस्पतालों में से केजीएमयू में 150, लोहिया में 100, पीजीआई में 100, सिविल अस्पताल में 30, लोकबंधु में 30 और बलरामपुर अस्पताल में 40 बेड़ तैयार हैं। एसीएमओ डॉ. विवेक दुबे ने कहा कि '1025 बेड की व्यवस्था पुख्ता तरीके से हो गई है। इसमें 100 बेड नीकू व 925 बेड पीकू श्रेणी के हैं। दो साल से कम उम्र के बच्चों में संक्रमण का खतरा काफी कम है।' बता दें कि, पूरे प्रदेश में 6700 पीकू बेड़ तैयार हो गए हैं।

इस माह काम हो जाएगा पूरा

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. मनोज अग्रवाल (CMO Dr Manoj Agarwal) ने बताया कि 'तीसरी लहर को लेकर तैयारियां पुख्ता हैं। बेड़, ऑक्सीजन प्लांट से लेकर वेंटिलेटर तक पूरी तैयारी है। जो भी काम बचा है, उसे इसी माह तक पूरा कर लिया जाएगा।'

Ashiki

Ashiki

Next Story