×

UP Election 2022: जन्मदिन पर मायावती का अखिलेश, स्वामी प्रसाद पर करारा वार, बताया दलित विरोधी

UP Election 2022: मायावती ने अपने लोगों से कार्यकर्ताओं से अपील की कि वह चुनाव में एक बार फिर बसपा को वोट करें और सरकार बनाएं।

Rahul Singh Rajpoot

Written By Rahul Singh RajpootPublished By Monika

Published on 15 Jan 2022 8:32 AM GMT

BSP Mayawati
X

मायावती (फोटो : न्यूज़ट्रैक)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

UP Election 2022: बहुजन समाज पार्टी (BSP) की मुखिया मायावती (Mayawati) ने आज आपने 68 वें जन्मदिन (Mayawati Birthday) पर मीडिया से बात की। और अपने जन्मदिन पर हर साल की तरह इस बार भी पुस्तक का विमोचन किया। मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस (press conference Mayawati) के दौरान कहा कि कोविड-19 का पालन करते हुए उनके कार्यकर्ता समर्थक पूरे देश में जन्मदिन मना रहे हैं। मायावती ने अपने लोगों से कार्यकर्ताओं से अपील की कि वह चुनाव में एक बार फिर बसपा को वोट करें और सरकार बनाएं। उन्होंने कहा कि जातिवादी मानसिकता वाली पार्टियों को बाहर करने के लिए हर वर्ग की भलाई के लिए आप सब बसपा में सरकार बनाएं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार में गरीब, पिछड़े हर वर्ग का ध्यान रखा जाता है और अब जरूरी है कि एक बार फिर से जनता बहुजन समाज पार्टी का साथ दें।

मायावती ने समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि अब लोग दलितों का हितैषी बन गए हैं और उनकी भलाई की बात कर रहे हैं लेकिन यह किसी से छुपा नहीं है कि समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की सरकार में कैसे दलितों (dalits) के हितों पर हमले हुए थे। संत, गुरुओं के नाम पर रखे गए जिले पार्क के नाम बदल दिया गया था। आज लोग समाजवादी, अंबेडकरवादी एक होने की बात कर रहे हैं लेकिन यही लोग उनके हितों पर हमले किए है। मायावती ने कहा समाजवादी पार्टी के शासनकाल में कैसे यादव वर्ग को फायदा पहुंचाया गया बाकी ओबीसी दलितों को कैसे दूर रखा गया क्या किसी से छिपा नहीं है।

स्वामी प्रसाद पर पलटवार

बसपा सुप्रीमो ने स्वामी प्रसाद मौर्य के उस बयान पर पलटवार किया। जिसमें उन्होंने कहा था वह जहां रहते हैं उनकी सरकार बनती है। मायावती ने कहा है बसपा में आने से पहले स्वामी प्रसाद मौर्य को कौन जानता था। वह बसपा से चुनाव जीते मंत्री बने और उनका रसूख हुआ। उन्होंने अपने बेटे बेटी के लिए टिकट मांग रहे थे जब उन्हें नहीं मिला तो वह पार्टी छोड़ कर चले गए। मायावती ने स्वामी प्रसाद मौर्य दल बदलू और मौका परस्त नेता करार दिया।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब में उनकी पार्टी मजबूती के साथ चुनाव लड़ रही है। जनता का भारी समर्थन भी मिल रहा है। 2007 की तरह बीएसपी इस बार भी सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि वह गरीबों, पिछड़ों के कल्याण के लिए वह प्रतिबद्ध हैं। अगर उनकी सरकार आएगी तो सभी धर्मों को साथ लेकर व विकास के रास्ते पर आगे चलेगी। मायावती ने अपने जन्मदिन को कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए मनाने की बात कही। उन्होंने कहा उनके कार्यकर्त नियमों का पालन करते हुए लोगों की मदद कर रहे हैं। मायावती ने कहा कि चुनाव के बाद देश के हालात बदलेंगे। विपक्षी दलों पर हमला बोलते हुए कहा कि उनके लोग विपक्षी दलों के हथकंडे से सावधान रहकर मतदान करें।

मायावती ने कहा मैंने चुनाव लड़ने का फैसला इसलिए नहीं किया क्योंकि अपने नेताओं और मूवमेंट को आगे बढ़ाने के लिए मैं काम करती रहती हूं, इसलिए मैंने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है। सत्ता में आने के बाद विधान परिषद से जाकर भी मुख्यमंत्री बन सकती हैं ऐसा पहले भी होता रहा है। बीएसपी दलितों के हितों के लिए हमेशा कार्य करती रही है प्रदेश की कानून व्यवस्था सुधारने का काम करेंगे।

भतीजे आकाश आनंद और कपिल मिश्रा के बारे में कही ये बात

मायावती ने अपने भतीजे आकाश आनंद और एसपी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा के बेटे कपिल मिश्रा के बारे में कहा कि दोनों युवा हैं और पार्टी मूवमेंट को आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। आकाश आनंद के चुनाव लड़ने पर उन्होंने कहा कि वह धीरे-धीरे सियासत में आ रहा है और अभी उसको चुनाव नहीं लड़ना चाहती। मायावती ने कहा कि वह उचित समय में उनको लेकर फैसला लेगी। अभी वह पार्टी को बढ़ाने और संगठन को मजबूत करने में लगा है। उन्होंने कहा कि सही समय आने पर वह बीएसपी परिवार से बात कर आकाश को चुनाव लड़ाने पर बात करेंगी।

मायावती ने कहा आकाश को लेकर तमाम तरह की बातें होती है जबकि सभी को मालूम है कि मेरा कोई परिवार नहीं है। उन्होंने कहा कि दलित पिछड़े उपेक्षित वंचित ही पूरे देश में मेरा परिवार है और इन्हीं के लिए मैं काम करती रही हूं। देश के करोड़ों भाई बहनों के परिवार और उनके बच्चे ही उनका परिवार है। इसीलिए सभी सम्मान से मुझे बहन जी कहकर पुकारते हैं। उन्होंने कहा कि वह दलित वंचित पिछड़ों को राजनीति में आगे बढ़ाने के लिए काम करती रही हैं और उन्हें टिकट देकर राजनीति में ले भी आई हैं। मायावती ने कहा कि इसको लेकर भी तमाम तरह की बातें आती है लेकिन देश और उनके समाज के लोग यह जानते हैं कि बहन जी किसके लिए काम करती हैं। उन्होंने मीडिया पर हमला बोलते हुए कहा कि जातिवादी मीडिया आकाश आनंद को लेकर इसी तरह से हमले करती रहेगी तो मान्यवर कांशीराम की तरह आकाश आनंद को आगे बढ़ाती रहेंगी।

मायावती ने कहा कि नौजवान भी इस बार बसपा को बड़ी संख्या में वोट करेगा और उनके वोट उनकी सरकार बनेगी। मायावती ने चुनाव के समय नेताओं के पार्टी छोड़ने के मुद्दे पर देश में दलबदलू कानून बनाने की मांग की है।

बसपा ने जारी की उम्मीदवारों की पहली लिस्ट

मायावती ने पहले चरण 10 फरवरी को होने वाले पहले चरण के 58 सीटों के लिए आज अपने 53 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट भी जारी की। उन्होंने कहा कि बची 5 सीटों के प्रत्याशियों का एक-दो दिन में ऐलान हो जाएगा मायावती ने सपा की पहली लिस्ट को लेकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कैसे यह पार्टी मुसलमानों का वोट लेकर उनके लिए कोई कार्य नहीं किया। जबकि बहुजन समाज पार्टी ने उनका प्रतिनिधित्व बढ़ाया उनके लिए कार्य किया।

taja khabar aaj ki uttar pradesh 2021, ताजा खबर आज की उत्तर प्रदेश 2021

Monika

Monika

Next Story