×

UP Congress: भाजपा पर बरसे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, क्यों टेनी को बचा रही सरकार

UP Congress: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने आज पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रैंस में बीजेपी सरकार पर सवाल उठाते हुए अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी की मांग की है।

Rahul Singh Rajpoot
Updated on: 3 Jan 2022 1:55 PM GMT
UP Congress Ajay Kumar Lallu
X

प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

UP Congress News: लखीमपुर खीरी हिंसा (Lakhimpur Kheri violence) में चार किसानों सहित 8 लोगों की मौत के मामले में एसआईटी (SIT) द्वारा सीजेएम कोर्ट (CJM Court) में चार्जशीट दाखिल की गई। एसआईटी (SIT) ने जो चार्जशीट दाखिल की है, वह पांच हजार पन्नों की है। इसमें बताया गया है कि आशीष मिश्रा मोनू (Ashish Mishra Monu) घटनास्थल पर मौजूद था। केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा (Minister Ajay Mishra) उर्फ टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू घटना का मुख्य आरोपी है। अब इसको लेकर विपक्षी पार्टियां एक बार फिर से बीजेपी सरकार (BJP Government) पर हमलावर हो गई हैं। इस इस मुद्दे पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Congress state president Ajay Kumar Lallu) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी को घेरा।

प्रेस कॉन्फ्रैंस में बीजेपी सरकार पर उठाए सवाल

अजय कुमार लल्लू (Congress state president Ajay Kumar Lallu) ने आज पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रैंस में बीजेपी सरकार (BJP Government) पर सवाल उठाते हुए अजय मिश्र टेनी (Minister Ajay Mishra) की बर्खास्तगी की मांग की है। उन्होंने कहा इस आरोप पत्र में अजय मिश्र टेनी (Minister Ajay Mishra) के रिश्तेदार वीरेंद्र कुमार शुक्ला को पुलिस ने साक्ष्य मिटाने के अपराध का दोषी माना है। प्रदेश अध्यक्ष (Congress state president Ajay Kumar Lallu) ने कहा कि अजय मिश्र टेनी (Minister Ajay Mishra) की बर्खास्तगी के लिए मोदी सरकार (Modi Government) को अभी और कितने और साक्ष्य चाहिए? अजय मिश्र टेनी (Minister Ajay Mishra) 120 बी के आरोपी हैं। एफआईआर में उनका नाम था एसआईटी यह बताएं कि कितनी बार उन्हें जांच के लिए बुलाया गया। एफआईआर में नाम होने के बावजूद चार्जशीट से गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी (Minister Ajay Mishra) का नाम क्यों हटाया गया। उनके पद पर रहते हुए जांच भटकाने का भी संन्देह पैदा होता है। प्रदेश एवं देश की पूरी भाजपा सरकार रक्षक के पद रहते हुए भी भक्षक के साथ खड़ी नजर आ रही है।

अजय लल्लू (Congress state president Ajay Kumar Lallu) ने कहा कि प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) घटना के बाद पीड़ित परिवारों से मिलने जा रहीं थीं। जिन्हें रोका गया और सीतापुर स्थित अस्थायी जेल में चार दिन तक रखा गया। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chhattisgarh Chief Minister Bhupesh Baghel) सहित पंजाब के नेताओं को भी वहां जाने से रोका गया। लल्लू (Congress state president Ajay Kumar Lallu) ने कहा राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को भी लखनऊ हवाई अड्डे (Lucknow Airport) पर काफी समय तक रोका गया। बाद में राहुल के संघर्ष के आगे योगी सरकार को झुकना पड़ा और छत्तीसगढ़ एवं पंजाब के मुख्यमंत्री के साथ जाने दिया गया। सीतापुर में प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi in Sitapur) के सामने योगी सरकार (Yogi Government) झुकी और उन्हें छोंड़ा गया। साथ ही पीडित परिवारों से मिलने वह भी पहुंची थीं।

भाजपा सरकार द्वारा देश एवं प्रदेश को किया गया गुमराह: अजय कुमार लल्लू

अजय कुमार लल्लू (Congress state president Ajay Kumar Lallu) ने कहा कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) सहित कांग्रेसजनों द्वारा लखीमपुर हिंसा मामले (Lakhimpur violence case) के पीड़ितों की आवाज पूरे देश के सामने उठाई गई। तब भी गलत तर्क देकर भाजपा सरकार (BJP Government) एवं प्रशासन द्वारा देश एवं प्रदेश को गुमराह किया गया।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि इतनी बड़ी घटना बिना गृह राज्यमंत्री के इशारे के संभव ही नहीं है। गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) को उत्तर प्रदेश में दूरबीन से अपराधी और अपराध नहीं दिख रहे थे। उनसे सवाल है कि एसआईटी द्वारा चार्जशीट दाखिल करने के बाद अपराध और अपराधी दिखाई दिया कि नहीं। यदि दूरबीन काम न कर पा रही हो तो कांग्रेस पार्टी दूरबीन मुहैया कराए।

विधानसभा चुनाव में जनता भाजपा सरकार को सिखायेगी सबक

इस मुद्दे को लेकर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के नेतृत्व में कांग्रेस के नेतृत्व में सड़क से लेकर सदन तक लड़ाई लड़ी, जिसका परिणाम धीर-धीरे सामने आ रहा है। मोदी सरकार (Modi Government) को अभी और कितने साक्ष्य चाहिए जिससे अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी हो सके। यह उत्तर प्रदेश की जनता जानना चाहती है। किसानों का नरसंहार इस प्रदेश की जनता न कभी भूलेगी न ही माफ करेगी। निश्चित ही आने वाले विधानसभा चुनाव में जनता भाजपा सरकार को सबक सिखायेगी।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story