×

UPTET 2021 Paper Leak Case: STF की बड़ी कार्रवाई, सचिव संजय उपाध्याय गिरफ्तार, एक अन्य को दबोचा

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 यानी (UPTET 2021) पेपर लीक मामले में बड़ी कार्रवाई के तहत एसटीएफ (STF) ने परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के मुताबिक, एसटीएफ ने संजय उपाध्याय के गिरफ्तारी मंगलवार देर रात की है।

Sandeep Mishra
Updated on: 2021-12-01T14:57:58+05:30
UPTET 2021 Paper Leak Case: STF की बड़ी कार्रवाई, सचिव संजय उपाध्याय गिरफ्तार, एक अन्य को दबोचा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

UPTET 2021 Paper Leak Case : यूपी टीईटी परीक्षा के लीक हुए प्रश्नपत्र को लेकर सूबे की योगी सरकार बेहद सख्त कदम उठा रही है। इस पेपर लीक मामले से जुड़े लोगों की लगातार गिरफ्तारियां एसटीएफ की ओर से की जा रही है। कल यानी मंगलवार को योगी सरकार ने परीक्षा नियामक प्रधिकारी संजय कुमार उपाध्याय को निलंबित कर दिया था। उसके बाद देर रात एसटीएफ ने संजय उपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया। अब उनसे एसटीएफ के अधिकारी पेपर लीक से जुड़े मामले में पूछताछ कर रही है। यूपी टीईटी पेपर लीक मामले में अब तक की यह सबसे बड़ी गिरफ्तारी है।

बताया यह जा रहा है, कि परीक्षा नियामक प्रधिकारी संजय उपाध्याय टीईटी की परीक्षा को सम्पन्न करवाने को लेकर अपने उत्तरदायित्व को अच्छे से नहीं निभा पाए हैं। उन पर यह भी आरोप है कि उन्होंने एक गैर जिम्मेदार दिल्ली के प्रेस मालिक राय अनूप प्रसाद को टीईटी के पेपर छापने की जिम्मेदारी सौंपी थी। इस पूरे प्रकरण को योगी सरकार ने बेहद गंभीरता से लिया है। एसटीएफ ने बताया, कि इस प्रकरण में अभी और भी गिरफ्तारी होनी शेष हैं।

घोर लापरवाही बरती गई

याद रहे, कि मंगलवार को योगी सरकार ने परीक्षा नियामक प्राधिकारी को निलंबित कर संजय उपाध्याय को बेसिक शिक्षा निदेशालय से अटैच कर दिया था। एसटीएफ ने बताया, कि टीईटी परीक्षा को संपन्न करवाने को लेकर परीक्षा नियामक अधिकारी ने घोर लापरवाही बरती है। एसटीएफ के पास इसके प्रमाण भी हैं। एसटीएफ ने बताया, कि टीईटी परीक्षा के प्रश्न पत्र को छापे जाने से लेकर परीक्षा संपन्न करवाने को लेकर परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय द्वारा घोर लापरवाही बरती गई है। इसी वजह से यह पेपर लीक हुआ। जिसे बाद में सरकार को परीक्षा रद्द करनी पड़ी।

एसटीएफ ने अलीगढ़ से की एक युवक की गिरफ्तारी

एसटीएस ने टीईटी पेपर लीक मामले से जुड़े एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है।गिरफ्तार आरोपी का नाम गौरव कुमार है और वह जनपद अलीगढ़ के थाना टप्पल का रहने वाला है।इसकी गिरफ्तारी अलीगढ़ शहर से एसटीएफ ने की है।गिरफ्तार युवक के पास से एक लेपटॉप, एडॉप्टर,माउस बोर्ड, प्रिंटर, इत्यादि सामान बरामद हुआ है।

गिरफ्तार युवक ने एसटीएफ ने बताया कि कुछ दिन पूर्व ही उसने व उसके साथियों ने यूपी टेट की परीक्षा का प्रश्न पत्र आउट करवाया था।उसने एसटीएफ को बताया कि थाना शामली पुलिस ने गत 28 तारीख को हमारे कुछ साथी गिरफ्तार कर लिया थे, इसकी भनक हम लोगों को लग गयी थी इसलिए बाहर जाने की फिराक में हमारे गिरोह कुछ अन्य साथी अभी मैलरोज वाईपास तिराहे पर आने वाले थे।

यूपी टीईटी-2021के प्रश्न पत्र के आउट करने के संदर्भ में आरोपी ने एसटीएफ को बताया कि उसने कुछ नामजद लोगों से टीईटी का यह प्रश्नपत्र 5 लाख रुपये में खरीद कर अपने साथी धर्मेंद्र मलिक, रवि पवार,मनीष मलिक निवासी मथुरा को दिया था।इन लोगों से पेपर के जो 5 लाख रुपये मिले थे वो निर्दोष व विष्णु के दो साथियों को दे दिए थे।उसके बाद निर्दोष व विष्णु ने उसे बताया कि टीईटी का पेपर शुरू होने के कुछ देर पहले उसकी कॉपी मेरे व्हाट्सएप पर आ जायेगी।

गत 28/11/2021 को विष्णु व निर्दोष ने टीईटी का प्रश्नपत्र परीक्षा शुरू होने के कुछ घण्टो पहले मेरे मेरे व्हाट्सएप पर भेज दिया था।जिसे मैंने कुछ परीक्षार्थियों को 2 - 2 लाख रुपये में बेच दिया था।निर्दोष व विष्णु से जान पहचान होने के एसटीएफ के सवाल पर गौरव ने बताया कि उसका भाई उपदेश अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के साथ साथ पढ़ते थे इसलिए उससे जान पहचान हो गयी।गौरव की गिरफ्तारी एसटीएफ मेरठ ने की है।एसटीएफ को अब गिरफ्तार गौरव से की गई पूछताछ में इस गिरोह जिन अन्य लोगों के नाम पता लगे है, अब एसटीएफ उन सभी की गिरफ्तारी की तलाश में छापेमारी कर रही है।

aman

aman

Next Story