×

वाराणसी में नजरबंद किये गए वीआईपी कार्यकर्ता, फूलन देवी की शहादत दिवस मनाने का था कार्यक्रम

उत्तर प्रदेश की सियासत में इंट्री से पहले ही बिहार कि विकासशील इंसान पार्टी योगी सरकार के निशाने पर आ गई।

Ashutosh Singh

Ashutosh SinghReport Ashutosh SinghAshikiPublished By Ashiki

Published on 25 July 2021 1:41 PM GMT

VIP worker
X

 नजरबंद किये गए वीआईपी कार्यकर्ता

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

वाराणसी: उत्तर प्रदेश की सियासत में इंट्री से पहले ही बिहार कि विकासशील इंसान पार्टी (Vikassheel Insaan Party) योगी सरकार के निशाने पर आ गई। फूलन देवी के नाम पर सियासत करने वाराणसी (Varanasi) पहुंचे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी (Mukesh Sahani) समेत दो दर्जन कार्यकर्ताओं को पुलिस ने नजरबंद कर दिया। रविवार को इसे लेकर पूरे हंगामा चलता रहा।

पिछले दिनों वीआईपी (VIP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार सरकार के मंत्री मुकेश सहनी की ओर से उत्तर प्रदेश के सभी मण्डलों में फूलन देवी (Phoolan Devi) की प्रतिमा लगाने का ऐलान किया गया था। तय कार्यक्रम के तहत 22 जुलाई को पार्टी कार्यकर्ताओं ने वाराणसी के रामनगर इलाके में प्रतिमा लगाने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने रोक लगाते हुए प्रतिमा को जब्त कर लिया था। पुलिस की कार्रवाई के बाद भी विकासशील इंसान पार्टी नहीं मानी और उसने 25 जुलाई को सांकेतिक विरोध करने का ऐलान किया। इस दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश साहनी को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करना था।


इस बीच पुलिस ने रविवार की सुबह ही पुलिस ने उस होटल को घेर लिया, जिसमें वीआईपी कार्यकर्ता रुके थे। पुलिस ने होटल के अंदर और बाहर पहरा बैठा दिया। दोपहर में राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी को को भी बाबतपुर एयरपोर्ट पर रोक दिया गया। पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ वीआईपी कार्यकर्ताओं ने हंगामा भी किया। इस मामले में पुलिस का कहना है कि वीकेण्ड लॉकडाउन और सावन के मद्देनजर शहर में धारा 144 लागू है। विकासशील इंसान पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए किसी तरह कि परमिशन नहीं ली थी।


प्रदेश के 18 मंडलों में लगनी है फूलन देवी की प्रति‍मा

आपको बता दें कि वीआईपी पार्टी की फूलन देवी की प्रतिमाओं को यूपी के 18 मंडलों में लगाने की योजना थी, जिसे वाराणसी प्रशासन ने मना कर दिया था। फिलाहल वाराणसी प्रशासन ने मूर्तियों को जब्त कर लिया है। जानकारी के मुताबिक ये मूर्तियां बिहार में तैयार की गई थीं।

Ashiki

Ashiki

Next Story