अयोध्या: राम जन्मभूमि में हुए आतंकी हमले पर आज आ सकता है फैसला

यूपी में अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर में 5 जुलाई, 2005 को हुए आतंकी हमले के मामले में प्रयागराज की स्पेशल ट्रायल कोर्ट मंगलवार को फैसला सुना सकता है।

अयोध्या : यूपी में अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर में 5 जुलाई, 2005 को हुए आतंकी हमले के मामले में प्रयागराज की स्पेशल ट्रायल कोर्ट मंगलवार को फैसला सुना सकता है। सुरक्षा कारणों से फैसला प्रयागराज की नैनी सेन्ट्रल जेल में बनाई गई अस्थायी स्पेशल कोर्ट में सुनाया जाएगा। जहां आतंकी हमले के पांचों आरोपी बंद हैं।

स्पेशल जज एससी-एसटी दिनेश चंद्र की कोर्ट में दोनों पक्षों की बहस 11 जून को ही पूरी हो चुकी है। इस मामले में कुल 63 गवाहों के बयान दर्ज किए गए हैं। 57 गवाहों को अभियोजन पक्ष ने पेश किया था, जबकि छह गवाहों को कोर्ट ने तलब किया था। इसके बाद कोर्ट ने फैसला सुनाने के लिए 18 जून की तिथि तय की गई थी।

यह भी देखें… डॉक्‍टरों की अस्पताल में सुरक्षा की मांग, आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

यह है पूरा मामला

आतंकियों ने 5 जुलाई, 2005 की सुबह करीब सवा नौ बजे अयोध्या स्थित रामजन्मभूमि परिसर की बैरिकेडिंग के पास और परिसर में अत्याधुनिक हथियारों से ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुए बम धमाका किया था। इसमें ड्यूटी में तैनात सुरक्षा बल के कई जवान जख्मी हो गए थे। जवाबी कार्रवाई में जवानों ने पांच आतंकियों को ढेर कर दिया था। बाद में पांच और आरोपी पकड़े गए। इस हमले में दो आम नागरिक भी मारे गए थे, जबकि सात अन्य लोग घायल हुए थे।

राम जन्मभूमि थाने में दर्ज है केस

घटना के बाद हमला करने वालों की मदद के आरोप में पकड़े गए सहारनपुर के शेख जादगानना कस्बा निवासी डॉक्टर इरफान, जम्मू के पुंछ सखी मैदान निवासी आसिफ इकबाल उर्फ फारूक और शकील अहमद, पुंछ के ही पाटीदार निवासी मोहम्मद नसीम और मोहम्मद अजीज फिलहाल नैनी सेंट्रल जेल में बंद हैं। इस मामले में 11वीं वाहिनी पीएसी के दलनायक कृष्ण चंद्र सिंह की तहरीर पर फैजाबाद के थाना राम जन्म भूमि में मामला दर्ज हुआ था।

यह भी देखें… भूकंप के झटके से हिला अंडमान द्वीप समूह, सुबह 03:49 बजे आया 4.9 तीव्रता का भूकंप

नैनी सेंट्रल जेल में स्थानांतरित कर दिए गए थे आतंकी

जिला जज फैजाबाद की अदालत ने 19 अक्टूबर, 2006 को आरोप तय किया था। बाद में हाई कोर्ट के आदेश पर आतंकियों को इलाहाबाद स्थित नैनी सेंट्रल जेल स्थानांतरित कर दिया गया। इस मामले की सुनवाई जेल की विशेष अदालत में चली और पूरी भी हो चुकी है।