Azam Khan को बड़ा झटका: योगी सरकार का एक्शन, जौहर विवि पर सख्त आदेश

भारतीय जनता पार्टी के नेता आकाश सक्सेना ने जौहर विश्वविद्यालय संबंधित एक और घोटाले का खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि जौहर विश्वविद्यालय को जब खोल गया था

Published by Roshni Khan Published: January 21, 2021 | 1:05 pm
cm-yogi

Azam Khan को बड़ा झटका: योगी सरकार का एक्शन, जौहर विवि पर सख्त आदेश (PC: social media)

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मोहम्मद आजम खां ने अल्पसंख्यकों के नाम पर जौहर विश्वविद्यालय तैयार कराया। अरबों रुपये का चंदा जुटाया, सरकार से भारी-भरकम छूट ली लेकिन जब अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को लाभ देने की बारी आई तो साफ मुकर गए। भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने अल्पसंख्यक विद्यार्थियों का हक छीनने वाले जौहर विश्वविद्यालय को सरकारी घोषित करने की मांग की है।

ये भी पढ़ें:राष्ट्रपति पद छोड़ने से पहले समर्थकों का भला करना नहीं भूले ट्रंप, किया ये बड़ा काम

मोहम्मद आजम खान ने इसे अल्पसंख्यक दर्जा दिलाया था

भारतीय जनता पार्टी के नेता आकाश सक्सेना ने जौहर विश्वविद्यालय संबंधित एक और घोटाले का खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि जौहर विश्वविद्यालय को जब खोल गया था तो समाजवादी पार्टी के नेता मोहम्मद आजम खान ने इसे अल्पसंख्यक दर्जा दिलाया था। उन्होंने विश्वविद्यालय के बाईलॉज में दावा किया है कि इस विश्वविद्यालय में अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को मुफ्त शिक्षा दी जाएगी। इसी आधार पर सरकार ने जौहर विश्वविद्यालय की स्थापना को मंजूरी दी और सरकारी स्तर पर अनेक सुविधाएं भी मुहैया कराई गईं।

सरकार से तमाम तरह की छूट लेने के बाद जौहर विश्वविद्यालय प्रबंधन अपने वादे से साफ मुकर गया। 2019 में जब इस बात की शिकायत मिली कि यहां अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को कोई सुविधा नहीं दी जा रही है। उनसे पूरी फीस वसूली जा रही है तब जौहर विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार से इस बारे में जानकारी मांगी गई । विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार ने लिखित तौर पर स्वीकार किया है कि अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं से संपूर्ण फीस वसूली जा रही है किसी तरह की कोई फीस माफी नहीं की गई है ।

ये भी पढ़ें:अमर शहीद हेमू कालानी के शहीदी दिवस पर ब्रजेश पाठक व संयुक्ता भाटिया ने किया प्रतिमा का अनावरण

आजम खान ने जौहर विश्वविद्यालय को सिर्फ अपनी निजी राजनीति चमकाने के लिए बनाया है

भाजपा नेता ने कहा कि मोहम्मद आजम खान ने जौहर विश्वविद्यालय को सिर्फ अपनी निजी राजनीति चमकाने के लिए बनाया है। इससे उनके अपने राजनीतिक और आर्थिक स्वार्थ ही पूरे हो रहे हैं। इससे समाज व देश को कोई लाभ नहीं हुआ है। अगर यह निजी विश्वविद्यालय है तो सरकारी छूट और चंदा लेने का उन्हें कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि इस तरह के तथ्य सामने आने के बाद अब प्रदेश सरकार को पूरा विश्वविद्यालय अपने नियंत्रण में कर लेना चाहिए। जौहर विश्वविद्यालय के छात्रों के उज्जवल भविष्य के लिए योगी सरकार को अब विश्वविद्यालय में प्रशासक बैठा देना चाहिए।

रिपोर्ट- अखिलेश तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App