Top

RSS- MODI पर फिर बरसे आजम, कहा- अपनी सल्तनत छोड़ कहां जाऊं

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 6 May 2016 7:02 AM GMT

RSS- MODI पर फिर बरसे आजम, कहा- अपनी सल्तनत छोड़ कहां जाऊं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने इशारों-इशारों में फिर बीजेपी, आरएसएस और पीएम मोदी पर निशाना साधा है। आजम ने कहा है कि बिना गुनाह के उन्हें खूब सजा दी जाती है। आजम ने ये भी कहा, 'मेरा दामन साफ है, लेकिन सुनने को मिलता है कि पाकिस्तान चले जाओ। इतनी बड़ी सल्तनत छोड़कर कहां जाऊं।'

यह भी पढ़ें... प्राची का आजम को जवाब-मर्दानगी रणभूमि में दिखाई जाती है,शादी कर नहीं

स्कूल-जौहर यूनिवर्सिटी को बताई सल्तनत

-आजम ने कहा कि बच्चों के स्कूल, यूनिवर्सिटी बनवाए, मेडिकल कॉलेज बनवा रहे हैं।

-1947 में मुसलमान झोपड़ी छोड़कर भी पाकिस्तान नहीं गए।

-आजम ने कहा, 'अपनी इतनी बड़ी सल्तनत छोड़कर कैसे चला जाऊं।'

-आजम ने कहा कि उन पर निशाना साधने वालों से ज्यादा वह देशभक्त हैं।

-आजम ने मुजफ्फरनगर दंगों से बीजेपी को फायदा होने की बात भी कही।

यह भी पढ़ें...VIDEO: आजम खान ने कहा- शादी करके मर्दानगी साबित करें योगी आदित्यनाथ

पीएम मोदी पर साधा निशाना

-आजम बोले कि लोगों को अहसास होगा कि ठगने वाला ठग कर चला गया।

-काले धन के मुद्दे पर कहा, '100 दिन में एक कौड़ी भी नहीं आई।'

-रोजगार न दिए जाने का भी मुद्दा आजम खान ने उठाया।

-नवाज शरीफ की मां के पैर छूने पर भी तंज कसा।

-पीएम आवास में मोदी की पत्नी को न रखने पर भी सवाल उठाया।

केंद्र-बीएसपी पर भी बरसे

-आजम ने कहा, 'मेरे विभाग को मिलने वाले धन में केंद्र ने कटौती कर दी।'

-वाटर टैंक, सीवेज और पेयजल की योजनाएं रुकने का हवाला दिया।

-फंड रोकने को राष्ट्रद्रोह बताया। ऐसा करने वाले को फांसी देने की मांग।

- आजम ने कहा, 'नफरत से होता है नुकसान, लोगों को प्यार की राह पर चलना होगा।'

-मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि स्मारकों-पार्कों में बगैर चप्पल नहीं घूम सकते।

और क्या बोले आजम?

-मीडिया के मित्र मेरी भावनाओं को समझें, मैं प्यार का संदेश देना चाहता हूं।

-मैंने फूल बांट दिए, जो पत्थर हिस्से में आए उनका स्वागत करता हूं।

-हिसाब लेंगे, तो शायद ही कोई घर होगा जहां सरकार ने दस्तक न दी हो।

-अगली बार सरकार नहीं आएगी तो ऑटो में बैठकर रेलवे स्टेशन चला जाऊंगा।

Newstrack

Newstrack

Next Story