×

बारह घण्टे में तबाही मचा सकती है घाघरा, 70 गांव खाली करने के आदेश 

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 6 Aug 2018 5:07 AM GMT

बारह घण्टे में तबाही मचा सकती है घाघरा, 70 गांव खाली करने के आदेश 
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बहराइच : घाघरा नदी के जलस्तर में तेजी से इजाफा हो रहा है। घाघरा में चार लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। जिससे गांवों में बाढ़ की संभावना है। एसडीएम व तहसीलदार ने 70 गांवों को खाली करने के आदेश जारी कर दिए हैं। तहसीलदार ने गांवों में चेतावनी जारी करते हुए लेखपालों को भी लगा दिया है। सोमवार दोपहर व शाम तक पानी पहुंचने पर हालात और भी बदतर होने की संभावना है। लोगों में हड़कंप की स्थिति है। सभी सामान समेटकर तटबंध की ओर भाग रहे हैं। वहीं घाघरा का जलस्तर पांच सेंटीमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। गांवों में पानी घुसने की संभावना को देखते हुए तीन तहसीलों के एसडीएम को अलर्ट कर दिया गया है। एडीएम ने महसी क्षेत्र में निरीक्षण कर ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

बारह घण्टे में तबाही मचा सकती है घाघरा, 70 गांव खाली करने के आदेश

नेपाल के पहाड़ी इलाकों में हो रही बरसात के कारण घाघरा नदी में बैराजों से पानी छोड़ा जा रहा है। घाघरा नदी में शारदा बैराजा, गोपिया बैराज, गिरिजापुरी बैराज से तीन लाख 94 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। नदी का जलस्तर पहले से ही काफी अधिक था। चार लाख क्यूसेक के करीब पानी छोड़े जाने के बाद नदी का पानी गांवों में घुसने की संभावना है। जिसे देखते हुए महसी में बेलहा-बेहरौली तटबंध के दूसरी ओर बसे गांवों में चेतावनी जारी कर दी गई है।

महसी तहसील क्षेत्र के 70 गांवों में तहसील प्रशासन की ओर से चेतावनी जारी कर दी गई है। घाघरा नदी का जलस्तर पांच सेंटीमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से बढ़ने लगा है। जलस्तर के बढ़ने की रफ्तार को देखते हुए अपर जिलाधिकारी रामसुरेश वर्मा ने महसी तहसील क्षेत्र में उपजिलाधिकारी राजेश श्रीवास्तव और कैसरगंज के एसडीएम पंकज कुमार के साथ दौरा किया। एडीएम ने बताया कि महसी तहसील क्षेत्र के ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश जारी किए गए हैं। वहीं तहसीलदार की जीप से कर्मचारियों ने क्षेत्र के गांवों में घूमकर लोगों को अलर्ट रहने और गांव को खाली करने की सूचना दी है।

बारह घण्टे में तबाही मचा सकती है घाघरा, 70 गांव खाली करने के आदेश

दो बाढ़ शरणालय पर रहेंगे ग्रामीण

जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने बताया कि महसी तहसील क्षेत्र के शारदासिंहपुरवा बाढ़ चौकी और ऐरिया इंटर कालेज को बाढ़ शरणालय बनाया गया है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों को इन शरणालयों पर सुरक्षित पहुंचाया जाएगा। ग्रामीणों के खानेपीने और अन्य इंतजाम किए जाने के निर्देश भी एसडीएम को जारी कर दिए गए हैं।

यह गांव खाली करने के निर्देश

महसी तहसील क्षेत्र के कायमपुर, गोलागंज, भौंरी, सिपहिया हुलास, बौंडी, चरीगाह, पिपरा, पिपरी, गोलागंज नईबस्ती, बरुआ कोड़र, बकैना, चुरईपुरवा, पासिनपुरवा, पुरबियनपुरवा, मल्लाहनपुरवा, तूलापुर, जरमापुर, कोठार, रानीबाग, छत्तरपुरवा, सरसठ बेटौरा, प्रह्लादपुरवा, तारापुरवा, मथुरापुरवा समेत 70 गांवों को खाली करने का निर्देश दिया गया है। इन गांवों की लगभग 30 हजार से अधिक की आबादी को बाढ़ शरणालयों पर सुरक्षित पहुंचाने के लिए लेखपालों और ग्राम विकास अधिकारियों को लगाया गया है।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story