Top

असम में BJP को मिली जीत तो UP में बनने लगे बायोडाटा, सबको चाहिए टिकट

By

Published on 21 May 2016 2:13 PM GMT

असम में BJP को मिली जीत तो UP में बनने लगे बायोडाटा, सबको चाहिए टिकट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इलाहाबाद: असम के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को मिली शानदार जीत से पूरी पार्टी में जश्न का माहौल है।अभी से बीजेपी नेता यहां बड़ी जीत की उम्मीद लगाए बैठे हैं। कुछ ने तो अभी से अपनी उम्मीदवारी को लेकर तैयारी भी शुरू कर दी है। तैयारी की इसी कड़ी में नेताओं ने पार्टी के लिए अपना बायोडाटा भी रेडी करना शुरू कर दिया है।

उम्मीदवारों ने कसी कमर

इन्हीं नेताओं में से एक हैं बीजेपी महिला मोर्चा की जिला अध्यक्ष सुमन गोस्वामी। इनका कहना है की वो पार्टी की बरसों से सेवा करती आ रहीं हैं। इसलिए इस बार उन्हें हर हाल में पार्टी से टिकट मिलना चाहिए।

बीजेपी में टिकट को लेकर मारामारी

राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव में कई पार्टियों ने अपने उम्मीदवारों की सूची अभी से जारी कर दी हैं। लेकिन आने वाले समय में टिकट को लेकर जिस पार्टी में सबसे ज्यादा मारामारी होने वाली है उसमें बीजेपी पहले नंबर पर होगी।

बनने लगे रेज्यूमे

असम में जीत के बाद यूपी में एक-एक सीट के लिए नेताओं में खींचतान तय है। इसी कड़ी में कार्यकर्ता हों या फिर नेता सभी अपनी दावेदारी को लेकर पुख्ता तैयारी कर रहे हैं। पार्टी के बड़े नेताओं के सामने उन्हें रखने के लिए बाकायदा अपना रेज्यूमे भी बना रहे हैंं।

महिलाएं भी मांग रही भागीदारी

इलाहाबाद में 12 विधानसभा सीट हैंं जिसमें महिलाएं कम से कम तीन में अपनी भागीदारी मांग रही हैं। पवन श्रीवास्तव भी अपनी दावेदारी को लेकर उत्साहित हैंं। उन्हें भी पार्टी से टिकट की दरकार है। टिकट को लेकर उनका कहना है कि पार्टी और उसके कैडर को मजबूती देने के लिए वो सालों से मेहनत कर रहे हैं।

छात्र पॉलिटिक्स से सक्रिय राजनीति में

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र राजनीति करने वाले राणा यशवंत भी अपनी उम्मीदवारी को लेकर उत्साहित हैं। वो कहते हैं कि 'मोदी जी अपने भाषण में हमेशा कहते हैं कि हमारे पास दुनिया में युवाओं की सबसे बड़ी फ़ौज है लिहाजा अबकी बार टिकट बांटने में युवाओं की कितनी भागीदारी होगी इस पर भी पार्टी को ध्यान देना होगा।'

'मोदी फैक्टर' की उम्मीद

इसके पीछे की असल वजह बीजेपी को असम में मिली बड़ी जीत है। क्योंकि ये नेता अच्छी तरह जानते हैं कि वहां की तरह इस बार यूपी में 'मोदी फैक्टर' काम कर गया तो उनकी नैया भी पार लग जाएगी।

Next Story