इस बीजेपी सांसद ने फहराया उल्टा झंडा, हवा को बताया दोषी

यूपी के शाहजहांपुर में जिला सहकारी बैंक में बीजेपी सांसद की मोजूदगी में उल्टा झंडा फहरा दिया गया । इस दौरान सभी अधिकारी और कर्मचारी मौजूद थे लेकिन किसी ने इस ओर ध्यान दिया। खास बात ये है कि उल्टा झंडा फहराने का मामला बीजेपी सांसद की मौजूदगी में हुआ है। इससे भी बङी बात ये है कि सहकारी बैंक के अध्यक्ष भी यहां के वरिष्ठ नेता है।

शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर में जिला सहकारी बैंक में बीजेपी सांसद की मोजूदगी में उल्टा झंडा फहरा दिया गया । इस दौरान सभी अधिकारी और कर्मचारी मौजूद थे लेकिन किसी ने इस ओर ध्यान दिया। खास बात ये है कि उल्टा झंडा फहराने का मामला बीजेपी सांसद की मौजूदगी में हुआ है। इससे भी बङी बात ये है कि सहकारी बैंक के अध्यक्ष भी यहां के वरिष्ठ नेता है। वीडियो वायरल होने के बाद सांसद और बैंक के अध्यक्ष ने बङी ही चालाकी से हवा को दोषी बताते हुए वीडियो को गलत साबित करने पर तुले है।

ये भी देखें:SP के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी कार्यालय पर किया झंडारोहण

सांसद अरूण सागर की मौजूदगी में फहराया गया

दरअसल जिला सहकारी बैंक पर फैर रहा उल्टा झंडा है। इस झंडे को किसी अधिकारी ने नही बल्कि बीजेपी के सांसद अरूण सागर की मौजूदगी में फहराया गया है। हालांकि झंडा फहर जाने के बाद जब अहसास हुआ तब उस झंडे को सीधा किया गया। लेकिन तब तक वीडियो बनकर सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा था। वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी नेताओं की किरकिरी होना भी स्वभाविक है।

जब इस गंभीर मामले पर बीजेपी सांसद अरूण सागर से बात की तो उन्होंने वीडियो को गलत बताते हुए सिर्फ नही में मूंह हिलाते रहे।

इसी बीच खुद जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष व बीजेपी नेता डीपीएस राठौड़ आए और उन्होंने मीडिया का सामना किया। अध्यक्ष ने कहा कि झंडा सीधा फहराया गया। तेज हवाओं के चलते ही झंडा उल्टा दिख रहा है। वीडियो को गलत तरीके से वायरल किया जा रहा है। ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। फिर वह वीडियो वायरल करने वालों को देश के प्रति अच्छे जज्बात पैदा करने की नसीहत देते नजर आए।

ये भी देखें:लखनऊ: नदवा कॉलेज की मुस्लिम छात्रों ने किया झंडारोहण

वही इस घटना पर डीएम इंद्र विक्रम सिंह का कहना है कि बेहद गंभीर मामला है। अगर उल्टा झंडा फहराया गया है तो इस पर जांच कराकर कङी कार्यवाई की जाएगी। क्योंकि हमने पहले ही सभी अधिकारियों से मीटिंग्स करके इस तरह की लापरवाही से बचने के निर्देश दिए थे।