Top

UPA ने किए 14 लाख करोड़ के घोटाले, हम पर चवन्नी का भी आरोप नहीं

By

Published on 7 Jun 2016 12:01 PM GMT

UPA ने किए 14 लाख करोड़ के घोटाले, हम पर चवन्नी का भी आरोप नहीं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: अमित शाह मंगलवार को लखनऊ पहुंचे। इससे पहले वे कासगंज में थे, जहां उन्होंने एक सभा को संबोधित किया। लखनऊ में अपने भाषण में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा, मोदी सरकार के 2 साल पूरा होने पर विकास पर्व मनाया जा रहा है। इसके तहत देश भर में 250 से ज्यादा जगहों पर सरकार के कामकाज के बारे में बताया जा रहा है। यह कार्यक्रम 15 जून तक चलेगा।

विरोधियों पर साधा निशाना

शाह ने कहा, यूपीए सरकार के दो कार्यकालों में 14 लाख करोड़ का घोटाला सामने आया, जबकि मोदी सरकार के दो साल में एक पैसे का भी भ्रष्टाचार सामने नहीं आया। मोदी सरकार ने विकास की सुस्त रफ्तार को फिर गति दी और टॉप पर पहुंचाया।

केंद्र राज्य के लिए कई योजनाएं ला रही है लेकिन ज्यादातर योजनाओं को राज्य सरकार और अफसरशाही उसमें अड़ंगा लगा देते हैं।

AMIT-SHAH-3

साल 2015 रहा ऐतिहासिक

-आजादी के बाद सबसे ज्यादा यूरिया सबसे ज्यादा एथेनॉल का उत्पादन और प्रयोग हुआ।

-सबसे ज्यादा सॉफ्टवेयर का एक्सपोर्ट हुआ।

-सबसे बड़ा विदेशी मुद्रा का भंडार संचित हुआ।

-8 प्रतिशत विकास गति के साथ ऐतिहासिक विकास हुआ।

-इस साल आज़ादी के बाद सर्वाधिक बिजली और कोयले का उत्पादन किया गया।

AMIT-SHA-5राज्य सरकार पर बरसे शाह

-यूपी सरकार प्रधानमंत्री फसल बीमा लागू नहीं कर रही। अभी तक उसके लिए टेंडर भी नहीं हुआ। 74 जिलों का डीपीआर तक नहीं मिला है।

-मनरेगा में भी वही हाल है, ई-रजिस्टर तक नहीं बनाई जा रही। इससे उनके पेमेंट में दिक्कतें आ रही हैं।

-सपा सरकार आकंठ भ्रष्टाचार में डूबी है।

-यादव सिंह का मुद्दा सपा सरकार का काला चिटठा खोल रही है।

AMIT-SHAH-2सपा के नेता कार्यकर्ता जमीन हड़पने में जुटे

आजादी के 60 साल हो गए लेकिन एक जिले में इतनी बड़ी जमीन पर कब्ज़ा जमाने के मामले सामने नहीं आए थे। जमीन खाली करवाने गए अधिकारियों को भी बुरी तरह मार दिया गया लेकिन सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। सपा के कार्यकर्ता और नेता गरीबों की जमीनें हड़पने में जुटी हैं। हम सपाईयों द्वारा कब्जाई गई जमीन के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे। हम ऐसे पीड़ितों को साथ लेंगे उन्हें हम अपना संपर्क सूत्र देंगे। अपना ईमेल देंगे। एक आंदोलन चलाएंगे

Next Story