Top

कांवड़ कैंप से अगवा बच्चे की हत्या, मांगी थी 1.5 करोड़ की फिरौती

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 2 Aug 2016 9:20 PM GMT

कांवड़ कैंप से अगवा बच्चे की हत्या, मांगी थी 1.5 करोड़ की फिरौती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बागपतः छह दिन पहले कांवड़ कैंप से अगवा हुए 11 साल के बच्चे की लाश मंगलवार को हिंडन नदी से बरामद हुई। इसके बाद भड़के ग्रामीणों ने बागपत की भड़ल चौकी का घेराव कर जाम लगा दिया। तनाव को देखते हुए आसपास के जिलों से बड़ी तादाद में पुलिस बुलाई गई। बच्चे के पिता चमड़ा कारोबारी हैं। उनसे बदमाशों ने डेढ़ करोड़ रुपए की फिरौती मांगी थी।

bgp-murder-2 उग्र लोगों ने सड़क जाम कर दी

क्या है मामला?

-चमड़ा कारोबारी रवींद्र का बेटा क्रिश का 28 जुलाई को अपहरण हुआ था।

-वह गांव के बाहर लगे कांवड़ कैंप में कांवड़ियों की सेवा करने गया था।

-अगवा करने वालों ने रवींद्र से दो दिन में डेढ़ करोड़ रुपए देने की मांग की थी।

-मंगलवार को बच्चे की लाश बरामद होने के बाद लोग गुस्से में आ गए। उन्होंने पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया।

-उग्र लोगों और पुलिस के बीच कई बार टकराव होते-होते बचा। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि तीन दिन में आरोपी न गिरफ्तार हुए तो नतीजे गंभीर होंगे।

bgp-murder-3 मौके पर जांच करतीं एसपी पूनम और अन्य अफसर

क्या कह रहे हैं अफसर?

-बागपत की एसपी पूनम ने बताया कि पहली नजर में थाने की लापरवाही नजर आ रही है।

-उन्होंने भड़ल चौकी के पूरे स्टाफ को सस्पेंड कर दिया है।

-सस्पेंड होने वालों में दारोगा, तीन हेड कॉन्सटेबल और तीन कॉन्सटेबल हैं।

-एसपी के मुताबिक ऐसा लगता है कि हत्या करने के बाद फिरौती मांगी गई है।

bgp-murder-4 बच्चे की मां को सांत्वना देतीं पुलिस अफसर

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story