×

Firozabad News: बड़ी लापरवाही: ग्रामीणों को स्वास्थ्य विभाग ने बांट दी Expiry Date की दवा, गर्भवती महिला की हालत बिगड़ी

फिरोजाबाद के शिकोहाबाद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र धनपुरा के कर्मचारियों ने बुधवार को आमरी गांव के ग्रामीणों को एक्सपायरी डेट की दवा बांट दी जिसके कारण एक गर्भवती महिला की हालत बिगड़ गई।

Brajesh Rathore

Brajesh RathoreReport Brajesh RathoreShashi kant gautamPublished By Shashi kant gautam

Published on 9 Sep 2021 5:26 PM GMT

Health Department distributed the medicine of Expiry Date to the villagers
X

 फिरोजाबाद: ग्रामीणों को स्वास्थ्य विभाग ने बांट दी Expiry Date की दवा

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Firozabad News: उत्तर प्रदेश में एक तरफ जहां डेंगू व मलेरिया के मामले लगातार आ रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ फिरोजाबाद के शिकोहाबाद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र धनपुरा के कर्मचारियों ने बुधवार को लापरवाही की हद ही पार कर दी। डेंगू व मलेरिया से जूझ रहे आमरी गांव के ग्रामीणों को एक्सपायरी डेट की दवा बांट दी। ग्रामीणों को जब इसकी जानकारी हुई तो खलबली मच गई।

बता दें कि गांव आमरी में कुछ दिनों से डेंगू व मलेरिया से गांव के बच्चे महिलाएं व पुरूष बीमार पड़े हैं। गांव में लगभग दो दर्जन से अधिक लोग चारपाइयों पर लेटे हैं। सूचना मिलने पर बुधवार को धनपुरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सकों की टीम गांव पहुंच गई और एक-एक ग्रामीणों में बुखार, बदन दर्द की टेबलेट व अन्य दवा बांटकर लौट आई। गांव के ही एक युवक की नजर गोली के रेपर पर पड़ी तो वह अप्रैल-21 में ही एक्सपायर थी। रेपर चेक किया तो पता चला कि उनको जो दवा मिली है वो जून 21 में ही एक्सपायर हो गई थी।

गर्भवती महिला की एक्सपायरी दवा खाने से हालात बिगड़ी

वहीं गांव की गर्भवती महिला प्रियंका द्वारा एक्सपायरी दवां खाने से हालात बिगड़ गई। जिसको शिकोहाबाद अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं 60 वर्षीय मुन्नी देवी ने बताया कि बुखार और बदन दर्द की दवा ली थी उसे खाने के बाद हाथ-पैर सुन्न पड़ गए। फिर रात्रि में बेटे ने शिकोहाबाद प्राईवेट डाक्टर को दिखाया। वहीं देवेन्द्र सिंह ने बताया कि कल बुखार की दवा ली थी। पता चला कि दवा एक्सपायर हो चुकी है। फिर दवा नही खाई।

लापरवाह कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए

ग्रामीणों का आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग ने गांव में लगभग 200 लोगों को दवा वितरित की गई थी। जिसमें कुछ लोगों से दवा वापस तो ले ली लेकिन आधे गांव के पास अभी तक दवा रखी है। वहीं विभाग के खिलाफ ग्रामीणों ने नाराजगी जताई और आरोप लगाया कि स्वास्थ्य केंद्र में एक्सपायर दवा को नष्ट न करके उन्हें गरीबों में बांटकर उनके जीवन के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। लापरवाह कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story