×

Firozabad News: आढ़तियों की मनमानी से परेशान किसानों ने सड़क पर फेंकी सब्जियां, किया प्रदर्शन

मंडी में दाम ठीक न मिलने पर किसानों ने बेचने लाई गई सब्जियों को सड़कों पर फेंक दिया।

Farmer
X

अढ़तियों की मनमानी से नाराज किसानों ने सड़क पर फेंकी सब्जियां

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Firozabad News: कुछ दिन पहले तक जहां सब्जियों के दाम आसमान छू रहे थे। वहीं, आज मंडी में दाम ठीक न मिलने पर किसानों ने बेचने लाई गई सब्जियों को सड़कों पर फेंक दिया। किसानों का आरोप है कि आढ़तियों उनसे काफी कम दाम पर सब्जी खरीद रहे हैं जबकि बाजार में काफी महंगे दामों पर उसी सब्जी को बेचा जा रहा है। प्रतिदिन मंडी समिति में सब्जी बेचकर परिवार का पालन पोषण करने वाले किसान शनिवार को उत्तेजित हो उठे। आढ़तियों द्वारा सब्जियों को काफी कम कीमत पर खरीदे जाने के बाद सब्जी लेकर पहुंचे किसानों ने सब्जी बेचने से इनकार कर दिया और लाई गई सब्जियों को सड़कों पर फेंककर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया।

किसानों ने बताया कि आढ़तियों द्वारा किसानों से भिंडी, बैंगन, लौकी, तोरई, रमास 2 से 5 रुपए प्रति किलो खरीदे जा रहे हैं, जबकि बाजार में उन्हें 30 से 50 रुपए किलो तक में बेचा जा रहा है। आढ़तिया जान बूझकर किसानों की सब्जी को कम रेट पर खरीद रहे हैं। किसानों ने बताया कि गांव से मंडी तक सब्जी लाने का भाड़ा तक नहीं निकल पा रहा है। बाजार में सब्जी कम कीमत पर बिक रही होती तो समझ में आता है, लेकिन बाजार में सब्जी की कीमतें काफी अधिक हैं। जबकि किसानों से काफी कम कीमतों पर सब्जी खरीदी जा रही है। किसानों ने उच्चाधिकारियों से हस्तक्षेप कर सब्जी के सही दाम दिलवाए जाने की मांग की है।


किसानों ने बताया कि मंडी समिति में किसानों से एक से लेकर पांच रुपए प्रति किलो में अधिकतर सब्जियों को खरीदा जा रहा है। जबकि बाजार में उन्हीं सब्जियों को 20 से 50 रुपए प्रतिकिलो में बेचा जा रहा है। किसानों को लागत लगाने के बाद भी नुकसान हो रहा है जबकि बाजार में सब्जी बेचने वाले कई गुना मुनाफा कमा रहे हैं। किसानों का कहना है सब्जी की पैदावार की लागत की बात छोड़िए, मंडी तक पहुंचाने का भाड़ा तक नहीं निकल पा रहा है। अढ़तियों की तरफ से किसानों का शोषण लगातार किया जा रहा है। शिकायत करने पर भी किसानों की सुनने वाला कोई नहीं है।

Raghvendra Prasad Mishra

Raghvendra Prasad Mishra

Next Story